पटना, जेएनएन। 14 दिनों से राजधानी व आसपास के क्षेत्रों में लूट की बढ़ती वारदातें कुछ ऐसे इशारे कर रही हैं, जैसे लुटेरों को छूट मिल गई हो। सभी एरिया में अपराधी लूट की वारदात को अंजाम दे रहे हैं। जनवरी महीने में 12 से अधिक लूट की वारदात हो चुकी है। अब भी नौ लूटकांड में पुलिस के हाथ खाली हैं। अपराध की शैली से पुलिस अंदाजा लगा रही है कि एक ही गिरोह वारदात को अंजाम दे रहा है।

फुटेज के बावजूद हाथ हैं खाली

ज्यादातर घटनाओं में दो बाइक पर सवार चार अपराधी शामिल हैं। नौ थाना क्षेत्र में लूटकर फरार चल रहे इन अपराधियों का पुलिस के पास फुटेज भी है, पर ठिकाना कहां है, अपराधी कौन हैं, इसके बारे में पुलिस को खबर तक नहीं है। एक यही वजह है कि पटना में अपराधी बैखौफ होकर बड़ी-बड़ी वारदातों को अंजाम दे दे रहे हैं, और पुलिस हाथ मलते रह जा रही है।

इन थाना क्षेत्र में लूट और डकैती

तीन जनवरी से अबतक बाइक सवार अपराधियों ने बिहटा, दीघा, अगमकुआं, कदमकुआं, नौबतपुर, पीरबहोर, मोकामा, धनरूआ, पत्रकार नगर, गर्दनीबाग, एसकेपुरी, गौरीचक, मसौढ़ी में लूट की वारदात को अंजाम दिया है। इसमें अगमकुआं में डॉक्टर से कार लूट सहित अन्य तीन-चार लूट के मामलों में पुलिस आरोपितों को पकड़ सकी है।

पल्सर और अपाजे बाइक है अधिक पसंद

दीघा, बिहटा, नौबतपुर, पीरबहोर, कदमकुआं में हुई लूट में पल्सर और अपाचे बाइक का अपराधियों ने इस्तेमाल किया। दीघा और रूपसपुर को छोड़कर अन्य सभी वारदातों को दिन के 11 बजे से तीन बजे के बीच अंजाम दिया गया। हर वारदात में शामिल बदमाश हेलमेट और नकाब में ही थे। सभी की बोली भी स्थानीय थी। लेकिन अबतक पुलिस उनका पता तक नहीं लगा पाई है। इधर, लगातार बढ़ रही घटनाओं से व्यवसायियों में दहशत है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस