पटना। गिरफ्तारी के डर से दियारा के शकरपुर घाट पर गंगा में कूदे नवल राय का शव शुक्रवार को बरामद कर लिया गया है। वे बुधवार को पुलिस से बचने के लिए गंगा में कूद पड़े थे। शव बरामद होने की खबर मिलते ही स्थानीय लोग उग्र हो उठे और मुआवजे की मांग को लेकर जमकर हंगामा किया। आक्रोशित लोगों ने दानापुर बस पड़ाव के पास शव के साथ आगजनी की और सड़क जाम कर प्रदर्शन किया। साथ ही लोगों ने पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस बीच आक्रोशित लोगों ने अकिलपुर थानाध्यक्ष समेत पुलिस पर मुकदमा दर्ज करने और मृतक के आश्रितों को उचित मुआवजा देने की माग की।

गुस्साए लोगों ने मार्शल बाजार मोड़ पर आगजनी कर सड़क जाम कर दिया। इस कारण काफी देर तक आवागमन प्रभावित रहा। बाद में दानापुर पुलिस ने लोगों को समझा-बुझा कर जाम हटाया। मृतक के पिता राजेंद्र राय, भाई मदन राय, पत्नी चंद्रावती व मां बचनी देवी समेत अन्य स्वजन शव के साथ विलाप कर रहे थे। मृतक के भाई मदन ने बताया कि बुधवार की सुबह में नवल खेत में काम कर रहा था। तभी सादे लिबास में अकिलपुर पुलिस कुछ लोगों के साथ नवल की गिरफ्तारी के लिए वहां पर पहुंची और फायरिंग की। इससे डरकर नवल शकरपुर घाट पर गंगा में कूद पड़ा, मगर पुलिस मूकदर्शक बनी रही। एक नाविक ने उसे बचाने की कोशिश की पर पुलिस ने उसे भी भगा दिया। मृतक की मां ने बताया कि किसी केस में नवल का नाम नहीं था। पुलिस झूठे केस में उसे फंसाना चाहती थी। उन्होंने अकिलपुर थानाध्यक्ष समेत दोषी पुलिस के विरुद्ध मामला दर्ज करने की माग की। साथ ही स्वजनों ने मृतक की पत्नी व बच्चों को उचित मुआवजा देने की माग की। अकिलपुर के प्रभारी थानाध्यक्ष ने बताया कि दिघवारा थाना काड संख्या 248/19 में नवल राय समेत 25-26 लोग नामजद हैं। इसी मामले में पुलिस उसे गिरफ्तार करने गई थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस