पटना । पटना विश्वविद्यालय (पीयू) छात्रसंघ का चुनाव सात दिसंबर को होगा। इसकी घोषणा गुरुवार को पीयू के कुलपति प्रो. रासबिहारी प्रसाद सिंह ने सीनेट की बैठक में की। उन्होंने कहा कि सात की शाम में ही मतों की गणना कर विजयी प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर दी जाएगी। चुनाव शिड्यूल जल्द ही सार्वजनिक किया जाएगा। 22 से 26 नवंबर के बीच 'तरंग-2019' के आयोजन के कारण इस माह के अंतिम सप्ताह में चुनाव संभव नहीं हो सका। छात्रसंघ चुनाव के कारण नौ दिसंबर से प्रस्तावित सभी परीक्षाएं अब 16 दिसंबर के बाद आयोजित की जाएंगी। इस संबंध में जल्द ही नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा। पटना वीमेंस कॉलेज में दो दिसंबर से पीजी की सेमेस्टर परीक्षाएं प्रस्तावित हैं। इसमें भी बड़े स्तर पर फेरबदल होगा।

कुलपति के निर्देश पर सीनेट को डीएसडब्ल्यू प्रो. एनझा ने जानकारी दी कि पटना विश्वविद्यालय छात्रसंघ परिनियम में दो संशोधन किए गए हैं। अब अधिकतम सात साल की गणना इंटरमीडिएट उत्तीर्ण वर्ष से नहीं की जाएगी। अब यह स्नातक प्रथम वर्ष से होगी। वहीं, एकेडमिक एरियर को ज्यादा स्पष्ट कर दिया गया है।

: सितंबर में छात्रसंघ चुनाव की अवधि निर्धारित हो :

पुसु के निवर्तमान अध्यक्ष मोहित प्रकाश ने जेएनयू और डीयू की तर्ज पर सितंबर में किसी सप्ताह को चुनाव की निर्धारित अवधि तय करने की मांग की। उन्होंने कहा कि नियमित समय पर चुनाव से छात्रों में इसे लेकर रुचि बढ़ेगी। इसका समर्थन पुसु के अन्य पदाधिकारियों ने भी किया। महासचिव मणिकांत मणि ने हॉस्टल, उपाध्यक्ष अंजना सिंह ने छात्राओं की सुरक्षा, संयुक्त सचिव राजा रवि ने शिक्षकों की कमी तथा कोषाध्यक्ष सत्यम कुमार ने निर्माण व मरम्मत कार्य में अनियमितता की जांच के लिए कमेटी गठन की मांग की। एबीवीपी से पप्पू वर्मा ने कैंपस में बाहरी तत्वों के प्रवेश पर रोक लगाने की मांग की।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस