जागरण संवाददाता, पटना : भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आइआइटी), पटना अपने शोध क्षेत्र को और विस्तार देते हुए कृषि, विज्ञान एवं इंजीनियरिंग के लिए यूके के न्यूकैसल विवि के साथ समझौता किया है। इसके तहत दोनों विवि स्नातक के अपने-अपने विद्यार्थियों को एक्सचेंज कर शोध गतिविधियों की बारीकी को साझा करेंगे। आइआइटी ने यूनिवर्सिटी आफ न्यूकैसल अपॉन टाइन, यूके के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर दिया। इस समझौता का उद्देश्य उभरते क्षेत्रों में अत्याधुनिक अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए दोनों संस्थानों से जुड़े शोधकर्ताओं के भविष्य के जुड़ाव का समर्थन करना है। न्यूकैसल विश्वविद्यालय से, विज्ञान, कृषि और इंजीनियरिंग के संकाय इस समझौता ज्ञापन के तहत शामिल हैं। 

  • - न्यूकैसल विवि से विज्ञान, कृषि और इंजीनियरिंग के संकाय समझौते में शामिल
  • - स्नातक छात्रों के आदान-प्रदान व संयुक्त रूप से आयोजित होंगे सम्मेलन
  • - दोनों विवि शोध गतिविधियों की बारीकी को साझा करेंगे
अनुसंधान कार्यक्रमों के आदान-प्रदान को मिलेगा बढ़ावा

यह समझौता अनुसंधान कार्यक्रमों के आदान-प्रदान को बढ़ावा देगा। विभिन्न विषयों में नवीनतम विकास के माध्यम से छात्र और संकाय लाभान्वित होंगे। दोनों संस्थान अपने संकाय और प्रशासनिक कर्मचारियों, विभागों और अनुसंधान संस्थानों के बीच सीधे संपर्क और सहयोग को प्रोत्साहित करेंगे। सहयोग के सामान्य रूपों के अवसरों का पता लगाया जाएगाकि छात्र विनिमय, संयुक्त अनुसंधान गतिविधियां, अनुसंधान, शिक्षण और चर्चा के लिए कर्मचारियों और स्नातक छात्रों का दौरा और आदान-प्रदान और पारस्परिक हित के विषयों पर संयुक्त सम्मेलन या संगोष्ठी का आयोजन होगा।

उन्नत अनुप्रयोगों को विकसित करने का अवसर भी प्रदान करेगा

इन गतिविधियों के कार्यान्वयन के लिए विशिष्ट विवरण विशिष्ट परियोजनाओं के लिए पारस्परिक रूप से विकसित किए जाएंगे। यह छात्रों, विद्वानों और संकाय सदस्यों को इंजीनियरिंग के उभरते क्षेत्रों में अनुसंधान और परियोजनाओं को पूरा करने और कई उन्नत अनुप्रयोगों को विकसित करने का अवसर भी प्रदान करेगा। बता दें कि न्यूकैसल विश्वविद्यालय से, विज्ञान, कृषि और इंजीनियरिंग के संकाय इस समझौता ज्ञापन के तहत शामिल हैं। 

Edited By: Akshay Pandey