पटना, जागरण संवाददाता। बिहार के पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय में पीजी में नामांकन के लिए आनलाइन आवेदन 19 से 23 जनवरी तक लिए जाएंगे। इसके बाद छात्रों की पहली मेधा सूची 25 जनवरी को जारी कर दी जाएगी। पीजी नामांकन को लेकर विस्तृत कार्यक्रम सोमवार को छात्र कल्याण डीन प्रो. अरङ्क्षवद कुमार नाग ने जारी कर दिया। प्रथम मेधा सूची में चयनित विद्यार्थियों का नामांकन 31 जनवरी तक होगी। इसके बाद खाली सीटों पर नामांकन के लिए दो से छह फरवरी तक आनलाइन आवेदन लिए जाएंगे।

15 फरवरी से शुरू हो जाएंगी कक्षाएं

विश्‍वविद्यालय में नामांकन के लिए मेधा सूची आठ फरवरी को जारी होगी। 13 तक नामांकन प्रक्रिया पूरी कर 15 फरवरी से कक्षाएं आरंभ हो जाएंगी। आनलाइन नामांकन के लिए सामान्य, बीसी वन व बीसी टू के अभ्यर्थियों के लिए चार सौ रुपये आवेदन शुल्क रखे गए हैं। अन्य सभी के लिए तीन सौ रुपये जमा कराने होंगे। पूरी प्रक्रिया आनलाइन ही पूरी होंगी।

  • पीपीयू में पीजी नामांकन के लिए 23  तक आवेदन, 25 को मेधा सूची
  • 5 दिनों का मौका मिलेगा पाटलिपुत्र विवि में नामांकन को आवेदन के लिए
  • 8 फरवरी को जारी होगी दूसरी मेधा सूची
  • 2 से छह फरवरी तक खाली सीटों पर आवेदन का मौका

पीपीयू में छात्रों की समस्या दूर करने को सेल गठित

पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के नवनियुक्त कुलपति प्रो. आरके सिंह ने सोमवार से अधिकारिक रूप से क्रियाकलाप आरंभ कर दिया। पहले दिन ही सुबह 10 बजे ही कार्यालय पहुंच गए थे। कार्यारंभ करते हुए पहला फैसला पांच सदस्यीय स्टूडेंट ग्रिवांस रिडरेसल सेल का गठन का लिया। इसके बाद कुलसचिव डा. जितेंद्र कुमार ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी। यह सेल छात्रों के नामांकन, परीक्षा एवं परीक्षाफल प्रकाशन से संबंधित समस्याओं का समाधान करेगा।

यह सेल आनलाइन छात्र-छात्राओं की समस्याओं को स्वीकार करेगा और उसका त्वरित निष्पादन आनलाइन ही किया जाएगा। सेल के समन्वयक डा. मुकेश कुमार मधुकर होंगे। सदस्य के रूप में टीपीएस कालेज के डा. विनय भूषण कुमार, आरकेडी के डा. रंजन कुमार तथा सहायक ब्रजेश कुमार व सिद्धार्थ कुमार शामिल हैं। कुलपति ने ङ्क्षचता जाहिर करते हुए कहा कि सरकार द्वारा विश्वविद्यालय को भूमि अब तक मुहैया नहीं कराई गई है। इसके कारण यूजीसी की मान्यता 12 (बी) को प्राप्त करने में समस्या होगी।

छात्रों की समस्याओं का समाधान करने वाला यह सेल पूरी तरह आनलाइन कार्य करेगा। इसके लिए अधिकारिक वेबसाइट पर एक अलग से आप्शन दिया जाएगा। इस आप्शन पर क्लिक करते ही एक फार्म उपलब्ध हो जाएगा, इसे भरकर छात्र-छात्राओं को सबमिट करना पड़ेगा। उसके बाद उनका ग्रिवांस दर्ज हो जाएगा।  निर्धारित अवधि में उनकी समस्याओं का निष्पादन कर दिया जाएगा।

Edited By: Shubh Narayan Pathak