पटना [राज्य ब्यूरो]। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह व राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को लेकर बड़ा खुलासा किया है। पासवान ने बताया कि वीपी सिंह नहीं चाहते थे कि लालू बिहार के मुख्यमंत्री बनें। पासवान ने पटना के रवींद्र भवन में पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह की जयंती के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी मौजूद थे।

पासवान ने बताया, 'उन्होंने (वीपी सिंह ने) मुझे कहा था बिहार जाने के लिए। मेरे मना करने पर वे चाहते थे कि रामसुंदर दास बिहार के मुख्यमंत्री बनें। रामसु्ंदर दास हमारे खिलाफ चुनाव लड़ते थे, इसके बावजूद मैंने उनके नाम पर सहमति भरी थी।'

पासवान ने कहा कि वीपी सिंह राज परिवार में पैदा हुए और क्षत्रिय थे पर जब वह प्रधानमंत्री बने तो नौ महीने के भीतर यह नारा लगने लगा कि राजा नहीं फकीर है, देश की तकदीर है। वे भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़े। देश में उन्होंने भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन किया और सरकार भी बदली। वे चाहते तो 10 वर्षों तक प्रधानमंत्री रह सकते थे। कोई चुनौती नहीं थी। पर उन्होंने समझौता नहीं किया। उनके साथ काम करने में जो प्रेरणा मिलती थी उसका कोई हिसाब नहीं है।

पासवान ने कहा कि वीपी सिंह का नाम देश में हमेशा रहेगा क्योंकि उन्होंने धारा के विपरीत लडऩे का काम किया। बिहार में लागू शराबबंदी की चर्चा करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इसका काफी फायदा हुआ है।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस