पटना, आनलाइन डेस्‍क। Bihar Hooch Tragedy: बिहार में जहरीली शराब से मौत की घटनाएं आए दिन सामने आती रहती हैं। एक बार फिर ऐसा हुआ है। लेकिन खास बात यह है कि इस बार यह घटना मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा में हुई है। यद्यपि पुलिस जहरीली शराब से मौत नहीं मान रही है। लेकिन स्‍वजनों का कहना है कि शराब से ही मौत हुई है। जहरीली शराब से मौत की घटनाओं पर नजर डालें तो गोपालगंज और नवादा की घटनाएं तेजी से जेहन में आती हैं। करीब दो महीने पूर्व समस्‍तीपुर, बेतिया और गोपालगंज में जहरीली शराब से करीब 40 लोगों की मौत हो गई थी। इसके बाद सीएम नीतीश कुमार ने विशेष बैठक बुलाई। तब पुलिस-प्रशासन हरकत में आया। कई लोगों की गिरफ्तारियां हुईं। लेकिन एक बार फिर नालंदा में छह की मौत ने टीस को ताजा कर दिया है। 

2021 में जहरीली शराब ने ली 66 की जान 

बिहार में वर्ष 2021 में जहरीली शराब के एक-दो नहीं पूरे 13 मामले सामने आए। इनमें करीब 66 की मौत हो गई। इस साल नालंदा में हुई घटना से पहले बीते वर्ष 28 अक्‍टूबर की रात मुजफ्फरपुर के सरैया थाना क्षेत्र में आठ लोगों की मौत के बाद हड़कंप मच गया।  पता चला कि लोगों ने शराब पी थी। इसके बाद उनकी तबियत बिगड़ने लगी।  इससे पूर्व मुजफ्फरपुर के कटरा में वर्ष के आरंंभ में 17 एवं 18 जनवरी को जहरीली शराब ने पांच की जान ले ली थी। अगले महीने 26 फरवरी को मनियारी में दो की मौत हुई थी। वैशाली, सिवान में भी ऐसी एकाध घटनाएं होती रहीं।  नवादा जिले में जहरीली शराब पीने से नगर थाना क्षेत्र के डेढ़ दर्जन लेागों की मौत की बात सामने आई थी। जुलाई महीने में पश्चिमी चंपारण में भी एक दर्जन से ज्‍यादा लोगों की मौत हो गई।  

गोपालगंज और पश्चिमी चंपारण में 35 की मौत  

नवंबर महीने में गोपालगंज जिले के 18 और पश्चिम चंपारण के 17 लाेगों की जान जहरीली शराब के कारण चली गई। पता चला कि गोपालगंज के मोहम्‍मदपुर थाने के कुशहर तुरहा टोला और दलित बस्‍ती में दो दर्जन लोगों ने पाउच की शराब पी थी। कुछ देर बाद ही उकी तबियत बिगड़ने लगी। पेट में जलन और मुंह से झाग आने के बाद उन्‍हें अस्‍पताल ले जाया गया। वहां 10 की मौत हो गई। अगले दिन तक मृतकों की संख्‍या 18 पहुंच गई।  

खजुरबन्‍नी कांड से हिल गया था बिहार 

शराबबंदी कानून लागू होने के कुछ ही महीने बाद गोपालगंज के खजुरबानी की घटना ने तहलका मचा दिया था। स्‍वतंत्रता दिवस के दिन 2016 में नगर थाने के खजुरबानी में जहरीली शराब से 19 लोगों की मोत हो गई। एक दर्जन लोगों की आंखों की रोशनी चली गई थी। इस मामले में कोर्ट ने पहली बार शराब कांड में किसी को मौत की सजा दी। कुल नौ को फांसी और चार को उम्रकैद की सजा दी गई।  

Edited By: Vyas Chandra