कलेर (अरवल), संवाद सूत्र। Liquor Ban in Bihar : शराबबंदी पर सख्‍ती से जुटी बिहार पुलिस को अब आलू-प्याज बेचने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। आपको ये बात सुनने में जरूर अटपटा लग रहा हो लेकिन ये हकीकत है। दरअसल ऐसा करने की नौबत भी शराब माफिया की वजह से आई है। फिलहाल पुलिस आलू नीलाम करेगी। ये मामला अरवल जिला से जुड़ा है। बिहार में शायद यह पहला मौका होगा जब पुलिसिंग के अलावा कई सामान की बिक्री भी बिहार पुलिस के जवान करेंगे।

आलू-प्‍याज की आड़ में शराब की तस्‍करी करते हैं माफिया

दरअसल बिहार में जारी पूर्ण शराबबंदी के बाद भी लगातार शराब माफिया पुलिस को चकमा देने के उद्देश्य से शराब की तस्‍करी के नए-नए तरीके तलाशते हैं। कभी आलू-प्‍याज की आड़ में शराब लाते हैं तो कभी एंबुलेंस तो कभी दूध और गैस सिलेंडर की आड़ में शराब छिपाकर लाते हैं। हालां‍कि‍ हर बार उनके मंसूबे सफल नहीं हो पाते। अलग-अलग थाने की पु‍लिस उनके मंसूबे पर पानी फेर देती है। शराब के अलावा गाड़‍ियों पर लदी सामग्री भी पुलिस जब्‍त करती है। जब्‍त वाहनों की नीलामी की प्रक्रिया शुरू है। लेकिन अब उनकी सामग्री की नीलामी का फैसला भी लिया गया है जो तुरंत खराब होने वाली हैं। ऐसे में अरवल पुलिस जब्‍त आलू की नीलामी करने जा रहे रही है।  

अरवल थाने में नीलाम होगा एक सौ क्विंटल आलू 

सामान की नीलामी से मिली राशि सरकारी कोष में जमा कराई जाएगी। यह बिहार में पहला मौका होगा जब वाहनों के साथ अन्‍य जब्‍त सामग्री की नीलामी का फैसला लिया गया है। सोन नदी से सटे बिहार के इस जिले को शराब तस्‍कर अपने लिए सेफ जोन मानते हैं। लेकिन पुलिस की कार्रवाई लगातार होने से उनका हौसला पस्‍त हो रहा है। अरवल जिले के थाने में लाखों रुपये के आलू हाल के दिनों में जब्त किए गए थे।  उन्हें नीलाम कर सरकारी कोष में जमा करने की प्रक्रिया शुरू की गई है। इनको बाजार भाव के अनुसार कीमत लगा कर बेचा जाएगा।  डीएम जे प्रियदर्शिनी ने आलू की नीलामी का आदेश जारी किया है। कुल एक सौ क्विंटल आलू की नीलामी गुरुवार को ही होनी थी। लेकिन शराब विनष्‍टीकरण में थानाध्‍यक्ष की व्‍यस्‍तता के कारण अब यह कल होगी। 

Edited By: Vyas Chandra