पटना, जेएनएन। Bihar Onion Price: बिहार में अब प्याज की राजनीति शुरू हो गई है। जन अधिकार पार्टी (जाप) के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष व पूर्व सांसद पप्‍पू यादव ने मंगलवार को पटना में सस्‍ती दर पर प्‍याज की दुकान लगायी। यह दुकान और कहीं नहीं, बल्कि राजधानी स्थित बीजेपी कार्यालय के सामने पप्पू यादव ने दुकान लगाई और 35 रुपये किलो की दर से प्‍याज को बेचा। बता दें कि मंगलवार को पटना में प्‍याज 100 रुपये प्रतिकिलो मिल रहा है। हालांकि उन्‍होंने बीजेपी के अलावा जदयू और लोजपा कार्यालय के सामने भी दुकान खोलने की बात कही थी। लेकिन आज केवल बीजेपी कार्यालय के सामने ही उन्‍होंने दुकान लगायी। बाकी के दोनों दलाें के कार्यालयों के सामने दुकान लगाने का कार्यक्रम बाद में बनेगा। 

पप्‍पू यादव ने पटना में भाजपा कार्यालय के बाहर प्रति किलो 35 रुपये में गरीब लोगों के बीच प्‍याज बेचा। सस्‍ती दर प्‍याज खरीदने के लिए काफी संख्‍या में लोग पहुंचे। प्‍याज खरीदने के लिए महिलाएं भी काफी संख्‍या में पहुंची थी। बताया जा रहा है कि गरीब लोगों को आज उन्‍होंने 35 रुपये किलो की दर से प्‍याज दी। लेकिन उन्‍होंने यह भी घोषणा की कि अगर किसी गरीब के घर में शादी है तो उसे 35 रुपये में 10 किलो प्याज उपलब्‍ध कराएंगे।

प्‍याज के बहाने उन्‍होंने एन्‍उीए सरकार को भी निशाना बनाया। उन्‍होंने सवाल दागते हुए कहा कि क्या इस सरकार में सिर्फ मंदिर पर चार हजार करोड़ खर्च किए जाएंगे? क्या गरीबों के लिए कुछ नहीं होगा? उन्‍होंने कहा कि अगर नीतीश सरकार हरियाली योजना पर 24000 करोड़ खर्च कर सकती है, तो आम जनों के लिए राज्य सरकार प्‍याज भी सस्‍ती दरों पर उपलब्ध करा सकती है। तत्काल हरियाली यात्रा को रोक कर नीतीश कुमार महिलाओं की आंखों में आंसू पोछने का काम करें। महंगाई से बिहार के लोग बेहाल हैं।

उन्‍होंने प्‍याज के बहाने राजनीति करने के सवाल पर कहा कि अगर जनता की सेवा करना राजनीति है, तो मुझे यही राजनीति करनी है। जो कुर्सी की राजनीति कर रहे हैं, वही तो जमाखोरों को बचाने में लगे हैं। आखिर क्या कारण है कि 32000 मीट्रिक टन प्याज सड़ जाता है, लेकिन इसके कारणों को केंद्र सरकार क्यों नहीं बता पाती  है। यह कहीं न कहीं बड़े घोटाले का संकेत है और इसमें मंत्री से लेकर संतरी तक शामिल हैं। उन्‍होंने घोटाले की सच्चाई को सामने लाने के लिए  न्यायालय की देखरेख में  उच्चस्तरीय जांच समिति बनाए जाने की मांग की है। केंद्र सरकार की ओर से प्याज सड़ने से पहले आम लोगों के बीच उसे पहुंचाने की व्यवस्था की जाती तो शायद आज यह विकट स्थिति नहीं देखने को मिलती। 

बता दें कि इसके पहले बिहार में पटना समेत कई जिलों में बिस्‍कोमान की ओर से 35 रुपये किलो में प्‍याज को बेचा जा रहा था। इसके बाद इतनी भीड़ उमड़ने लगी कि उसे संभालना मुश्किल हो गया था। बिस्‍कोमान के अध्‍यक्ष ने आरोप भी लगाया कि प्रशासन की ओर से उन्‍हें सुरक्षा नहीं दी जा रही है। यहां तक बिस्‍कोमान के कर्मियों को हेलमेट पहनकर प्‍याज बेचना पड़ा। और अंत में शुक्रवार से बिस्‍कोमान की ओर से सस्‍ती दर पर प्‍याज बेचना बंद कर दिया गया। 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस