पटना। एएन कॉलेज पानी टंकी के पास पटना नगर निगम पाटलिपुत्र अंचल की जमीन पर ठेकेदार द्वारा चहारदीवारी निर्माण में घोटाले को लेकर अपर नगर आयुक्त देवेंद्र तिवारी ने चीफ इंजीनियर को जांच कर रिपोर्ट देने का निर्देश दिया है। जांच में दोषी पाए जाने पर ठेकेदार और संबंधित इंजीनियर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। अपर नगर आयुक्त ने कहा कि निर्माण की क्वालिटी से कोई समझौता नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इंजीनियर निर्माण स्थल पर जाकर ठेकेदार के कार्यो का मुआयना करें। गौरतलब है कि इस बाबत दैनिक जागरण के 13 तारीख के अंक में खबर प्रकाशित हुई थी। इसी खबर पर निगम अधिकारियों द्वारा संज्ञान लिया गया है। एएन कॉलेज पानी टंकी के पास पाटलिपुत्र अंचल के तहत चलने वाली निगम की गाड़ियों के रखरखाव, सफाई के लिए वॉशपिट और चालकों के लिए हॉल बनना है। इसके लिए वहां पहले चहारदीवारी का निर्माण कार्य किया जा रहा है। योजना में 21 लाख 48 हजार का टेंडर हुआ है। चाहरदीवारी के लिए ठेकेदार द्वारा पाइलिंग करवाकर जो पिलर ढलवाया गया है, उसकी क्वालिटी काफी घटिया है। एस्टीमेट के विपरीत निर्माण किया जा रहा है। मसलन 10 फीट पाइलिंग की जगह मात्र चार फीट की गई। वहीं ढलाई के लिए एक बोरी सीमेंट, डेढ़ बोरी गिट्टी और दो बोरी बालू का इस्तेमाल होना है। जबकि ठेकेदार द्वारा यहां पांच बोरी बालू, छह बोरी गिट्टी और एक बोरी सीमेंट डाला गया है। और तो और पास में ही जमे नाले के गंदे पानी से मसाले को बनाया गया है, जबकि इंजीनियरिग की दृष्टि से गंदे पानी से मसाले के निर्माण से उसकी मजबूती खत्म हो जाती है। एस्टीमेट में पानी के लिए भी पैसा दिया जाता है।

Posted By: Jagran