पटना, जेएनएन। प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच को सुपर स्पेशियलिटी बनाने के क्रम में सबसे पहले यहां डॉक्टरों के आवास, नर्सेज हॉस्टल सेंट्रल यूटिलिटी, ब्लड बैंक के साथ ही मल्टी लेवल पार्किंग की व्यवस्था होगी। इस मल्टी लेवल पार्किंग में एक साथ 940 वाहन पार्क किए जा सकेंगे। पहले फेज की परियोजना को पूरा करने में तकरीबन 2,039 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

दूसरे चरण में भी मरीजों को मिलेंगी सुविधाएं

पहले चरण के तमाम निर्माण पर 30.13 लाख वर्ग फीट जमीन की दरकार होगी। जिसकी व्यवस्था अस्पताल प्रशासन ने कर ली है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत नए निर्माण के लिए बिहार चिकित्सा सेवाएं एवं आधारभूत संरचना विकास निगम को 5,540 करोड़ रुपये स्वीकृत किए जा चुके हैं। दूसरे चरण में अस्पताल में 1,698 बेड वाला अस्पताल ब्लॉक, 250 एमबीबीएस नामांकन क्षमता वाले मेडिकल कॉलेज के भवन, ऑडिटोरियम, 556 वाहनों की पार्किंग वाली मल्टीलेवल पार्किंग और स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स का निर्माण किया जाएगा। दूसरे चरण के निर्माण पर कुल 1,771.73 करोड़ रुपये की लागत आएगी।

तीसरे और अंतिम चरण के निर्माण के दौरान सबसे पहले 1,573 बेड क्षमता वाले अस्पताल ब्लॉक का निर्माण होगा। इसके बाद चिकित्सक आवास टाइप 4, 5 का निर्माण होगा। तीसरे फेज के निर्माण पर 1,728 करोड़ रुपये की लागत आएगी।

क्या होंगी सुविधाएं

- नई मशीनें और उपकरण खरीद के लिए बजट में कुल 883.10 करोड़ रुपये के प्रावधान

- आवासीय भवनों के निर्माण पर 1,166 करोड़ का खर्च

- अस्पताल भवनों के निर्माण पर 3,266 करोड़ खर्च होंगे

-  प्रति बेड पर जो मशीनें लगाई जाएंगी उन पर 16.16 लाख रुपये की लागत आएगी

Posted By: Akshay Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस