पटना, जेएनएन। बिहार विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए एनडीए की ओर से भाजपा के लखीसराय विधायक विजय सिन्हा ने मंगलवार को पर्चा भर दिया। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और संसदीय कार्य मंत्री विजय चौधरी के कक्ष में एनडीए की ओर से नामांकन संबंधित औपचारिकता पूरी कर ली गई है। इसके बाद एनडीए का प्रस्ताव पत्र उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने विधानसभा सचिव को सौंपा दिया है। अब 'हां' और 'ना' के जरिए ध्वनी मत से चुनाव संपन्न कराया जाएगा।

उप मुख्यमंत्री रेणु देवी, पूर्व मंत्री और जदयू के वरिष्ठ नेता श्रवण कुमार, भाजपा के विधायक संजय सरावगी, नितिन नवीन, हम के विधायक अनिल सिंह और मंत्री मुकेश सहनी और वीआइपी विधायक दल की नेता एवं गौराबौराम के विधायक स्वर्णा सिंह ने संयुक्त रूप से प्रस्ताव पत्र दिया। बता दें कि विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए प्रस्ताव पत्र दल के नेता और समर्थक व प्रस्तावक विधायक सौंपते हैं।

बिहार विधानसभा अध्यक्ष चुनाव की ये है प्रक्रिया

विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव बुधवार को होना तय है। इसके लिए प्रक्रिया यह है कि एक विधायक अध्यक्ष पद के लिए किसी वरिष्ठ विधायक के नाम का प्रस्ताव करेंगे। इस पर गठबंधन या दल के विधायक का समर्थन हस्ताक्षर होगा। पर्चे पर अध्यक्ष पद के उम्मीदवार की भी साइन होती है। यह सहमति भी होगी कि उन्हें अध्यक्ष के रूप में काम करने में कोई आपत्ति नहीं है।

जीतन राम मांझी कराएंगे चुनाव की प्रक्रिया संचालित 

उधर, विपक्ष की ओर से प्रस्ताव पत्र सौंपे जाने के कारण चुनाव की स्थिति बन गई है। अब कार्यकारी विधानसभा अध्यक्ष जीतन राम मांझी चुनाव की प्रक्रिया को संचालित कराएंगे। एक ही नामांकन दाखिल होने पर सर्वसम्मति से अध्यक्ष के नाम का एलान होने की उम्मीद थी। लेकिन दो नामांकन दाखिल हुए हैं। ऐसी स्थिति में अब 'हां' और 'ना' के जरिए ध्वनी मत से चुनाव संपन्न कराया जाएगा। अध्यक्ष चुने जाने के बाद सदन के नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव आसन तक ले जाकर बैठाएंगे। आगे नवनिर्वाचित अध्यक्ष सदन संचालन शुरू करेंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप