पटना [जेएनएन]। रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के शिक्षा संबंधी चल रहे आंदोलन पर नीतीश सरकार में शामिल शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने करारा पलटवार किया है। उन्होंने कुशवाहा के आक्रोश मार्च को महज दिखावा करार दिया है। उन्होंने यदि शिक्षा में कुछ कमी है तो वे हमसे आकर बात करें। इसके नाम पर राजनीति नहीं करें। 

बता दें कि पूर्व केंद्रीय मानव संसाधन राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा बिहार में गिरती शिक्षा व्यवस्था के खिलाफ लगातार आंदोलन चला रहे हैं। जब वे नरेंद्र मोदी की सरकार शामिल थे, तभी से बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर किसी न किसी बहाने तीखे हमले करते आ रहे हैं। अब तो कुशवाहा एनडीए से बाहर हो गए हैं। इसके बाद सक वे नीतीश कुमार के खिलाफ और अधिक हमलवार हो गए हैं। बिहार में शिक्षा व्यवस्था के गिरने का आरोप लगाते हुए रालोसपा ने हल्ला बोल दरवाजा खोल आंदोलन चला रही है। 

इसी के तहत पटना में शनिवार को रालोसपा की ओर से आक्रोश मार्च निकाला गया। इसका नेतृत्व खुद उपेंद्र कुशवाहा कर रहे थे। डाकबंगला चौराहे पर रालोसपा कार्यकर्ताओं का उग्र प्रदर्शन देख पुलिस ने लाठी भांजी। इसमें कुशवाहा समेत कई लोग जख्मी हो गए। कई कार्यकर्ताओं को चोटें आई हैं। और अब, बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने कुशवाहा पर हमला बोला है। 

शिक्षा मंत्री वर्मा ने कहा कि नीतीश सरकार शिक्षा पर काफी ध्यान दे रही है। बिहार शिक्षा के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि इसके बाद भी यदि शिक्षा में किसी तरह की कमी है तो वे मुझसे इस मुद्दे पर बात करें। वे बात करने में क्यों झिझकते हैं। वे क्यों नहीं कुछ बोलते हैं। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैंने कई बार इस मामले में बात कर सुझाव मांगा, लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया। 

वर्मा ने तंज कसते हुए कहा कि कुशवाहा को विकास से कोई मतलब नहीं है। उन्होंने कहा कि वे उनका आंदोलन सिर्फ दिखावे के लिए होता है। वे आंदोलन के नाम पर केवल राजनीति करते हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में सरकार के काम को जनता अच्छे से जानती हैं।

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप