शेखपुरा, रितेश कुमार। घर लौट कर के आए प्रवासी श्रमिक भी अब अपने रोजगार का जुगाड़ अपने घर में ही करने लगे हैं। ऐसा ही जुगाड़ नए स्टार्टअप के रूप में बरबीघा बाजार में देखने को मिला। यहां ठेले पर सत्तू पीसकर बेचने का नया स्टार्टअप देखने को मिला। इस पर उचित कीमत पर ग्राहकों की संख्या भी अच्छी खासी देखी जा रही है।

पंजाब से मिला स्‍टार्ट-अप का आइडिया

नए स्टार्ट-अप का जुगाड़ किया है नालंदा जिले के अस्थामा गांव निवासी अखिलेश और संतोष ने। सत्तू-बेसन पीसने के चलंत मिनी प्लांट से अपने रोजगार की शुरुआत करने बाले इन दोनों भाइयों ने बताया कि यह आइडिया उन्हें पंजाब से मिला। इसमें 50 से 60 हजार रुपये की लागत आती है।

ग्राहकों को समाने पीसकर देते शुद्ध सत्‍तू-बेसन

इस ठेले पर प्रतिदिन 60 से 70 किलो भुना चना एवं चना दाल लेकर दोनो भाई गांव एवं नगर की ओर निकल पड़ते हैं। 250 ग्राम से किलो तक जितनी डिमांड ग्राहक करते हैं, उन्हें बाजार भाव में सामने ही पीसकर दे देते हैं। दुकानों में 90 व 100 रुपये किलो मिलने बाले मिलावटी सत्तू-बेसन छोड़ लोग इसे खरीदना पसंद कर रहे हैं।

दोनों भाइयों को रोजाना 800 रुपये तक की कमाई

इस रोजगार से दोनों भाइयों को रोजाना 800 रुपये तक की कमाई हो जा रही है। दोनों भाई कहते हैं अब कम भी कमाई हो तो प्रदेश नहीं जाएगें। यहीं रह कर कमाई करेंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस