राज्य ब्यूरो, पटना : मल्लाह, निषाद एवं बिंद सहित एक दर्जन से अधिक जातियों को अनुसूचित जाति-जनजाति में शामिल करने की मांग को लेकर आरक्षण अधिकार पदयात्रा का आयोजन किया जा रहा है। इसका नेतृत्व समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी करेंगे। यात्रा छह दिसंबर को बौद्ध् स्तूप केसरिया से शुरू होगी। 12 दिसंबर को पटना के गांधी मैदान में इसका समापन होगा। इस अवसर पर सभा का भी आयोजन किया गया है। गुरुवार को यहां आयोजित संवाददाता सम्मेलन में मंत्री मदन सहनी ने यह जानकारी दी। 

अजा-अजजा में शामिल करने की मांग की गई

समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने इन जातियों को अजा-अजजा में शामिल करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र भी लिखा है। पत्र के मुताबिक मल्लाह, निषाद, बिंद, बेलदार, चांय, तीयर, खुलवट, सुरहिया, गोढ़ी, बनाफर, केवट, नोनिया, कैवर्त, गंगोता, लोहार, पाल, गरेड़ी, माली, मालाकार, प्रजापति, कुम्हार, नाई, कानू, राजधोबी, चंद्रवंशी, कमकर, तुरहा एवं राजभर आदि जातियों को अजा-अजजा में शामिल करने की मांग की गई है।

मंत्री बोले- केंद्र सरकार नहीं दे रही पुरानी मांग पर ध्यान

समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने कहा कि यह मांग बहुत पुरानी है। लेकिन, केंद्र सरकार इस पर ध्यान नहीं दे रही है।  केंद्र सरकार ने राज्य से इस संबंध में जब कभी जानकारी मांगी, उसे उपलब्ध करा दी गई है। जनजातीय कार्य मंत्रालय को भी जरूरी दस्तावेज उपलब्ध करा दिए गए हैं।

मांग नहीं मानी तो बड़े आंदोलन की तैयारी की जाएगी

मदन सहनी ने कहा कि पदयात्रा के बाद भी मांग पूरी नहीं हुई तो बड़े आंदोलन की तैयारी की जाएगी। संवाददाता सम्मेलन में गौतम बिंद, धीरेंद्र निषाद, गौतम शर्मा, संजय सहनी, अमरनाथ चंद्रवंशी, राजेश चंद्रवंशी, राजकिशोर ठाकुर, राधेश्याम सहनी, दिलिप गुप्ता, उज्जवल गुप्ता, प्रयाग सहनी, दिनेश सहनी, श्रीराम चौधरी, विनोद चौधरी, रामपूजन सहनी एवं अजित मालाकार उपस्थित थे।

Edited By: Akshay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट