पटना, राज्य ब्यूरो। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए बिहार के सभी परिवारों को मुफ्त राशन के साथ प्रति माह कम से कम छह हजार रुपये महीने सहायता देने की मांग की है। यह राशि एपीएल-बीपीएल सभी को मिलनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कोरोना से लड़ाई में राजद सरकार की सकारात्मक पहल के साथ है। पेंशनधारियों एवं सरकारी कर्मचारियों को भी अग्र्रिम के तौर पर पांच हजार रुपये दिए जाएं। 

नेता प्रतिपक्ष ने व्यवसायियों, व्यापारियों और किसानों की भी तरफदारी करते हुए उनके कर्ज लौटाने में रियायत एवं ब्याज माफ करने की मांग करते हुए बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था को फिर नाकाफी बताया है। तेजस्वी ने कहा कि दस दिनों से हम लगातार अपील करते आ रहे हैं कि अधिक से अधिक जांच केंद्र बनाए जाएं और जांच किट मंगाई जाए। जिला स्तर और प्राथमिक उपचार केंद्र तक आइसोलेशन वार्ड बनाए जाएं। किंतु अभी तक टेस्टिंग भी शुरू नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि जांच नहीं होगी तो संक्रमण का पता कैसे चलेगा। सरकार गंभीरता से ले। जांच कराए और इलाज का प्रबंध भी। विश्व स्वास्थ्य संगठन सबकी जांच की सलाह दे रहा है। मास्क लगाने की सलाह दे रहा है, किंतु मुख्यमंत्री गुस्सा हो रहे हैं। डर फैलने का हवाला दे जांच नहीं हो रही है। 

तेजस्वी ने कहा कि बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खुल चुकी है। कहा जा रहा था कि बिहार में एक भी केस पॉजिटिव नहीं है, लेकिन दुर्भाग्यवश मरीज की मौत के बाद पता चला कि वह कोरोना से पीडि़त था। स्वास्थ्य मंत्री और उपमुख्यमंत्री राजनीति में तल्लीन हैं। सरकार अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए लोगों की जान से खिलवाड़ न करे। जरूरत पड़े तो केंद्र से भी मदद मांगें। बता दें कि इसके पहले तेजस्‍वी ने ट्वीट भी किया था। ट्वीट में कोरोना वायरस को लेकर कहा था कि हारेगी बीमारी और जीतेंगे बिहारी। 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस