पटना, स्‍टेट ब्‍यूरो। Bihar Politics बिहार में कांग्रेस (Congress) के महागठबंधन (Mahagathbandhan) से हटने के बाद राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के साथ उसका वार-पलटवार अब मर्यादा की सीमा लांघ रहा है। बिहार आने के ठीक पहले दिल्‍ली में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) ने बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्‍त चरण दास (Bhakta Charan Das) की राजनीतिक समझ पर सवाल उठाते हुए व्‍यक्तिगत हमला किया। बीजेपी से गठबंधन के आरोप पर लालू ने पूछा कि क्‍या कांग्रेस को हारने के लिए सीट देते? इसपर आरजेडी व कांग्रेस में वार-पलटवार का सिलसिला शुरू हो गया है। उन्‍होंने दोनों बेटों तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) एवं तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) के बीच किसी नाराजगी से इनकार किया तथा पार्टी में सबकुछ ठीक बताया।

देर शाम पटना पहुंचे लालू यादव

लालू देर शाम पटना पहुंचे। उनके साथ राबड़ी देवी व मीसा भारती भी थी। उनकी अगवनी में तेज प्रताप यादव एवं तेजस्‍वी यादव पटना एयरपोर्ट पहुंचे। एयरपोर्ट के बाहर समर्थकों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। एयरपोर्ट से वे सीधे राबड़ी आवास पहुंचे। 

बिहार कांग्रेस प्रभारी को बताया बेवकूफ

दिल्‍ली से पटना आने के पहले लालू प्रसाद यादव ने कांग्रेस को आईना दिखा दिया। पटना आने से पहले दिल्ली में पत्रकारों से उन्होंने साफ कहा कि कांग्रेस को हारने के लिए वे सीट नहीं दे सकते थे। कांग्रेस के बिहार प्रभारी भक्तचरण दास को उन्होंने भकचोन्हर (अज्ञानी) बताया। उपचुनाव में आरजेडी व कांग्रेस के बिगड़े रिश्ते पर लालू का पहली बार बयान आया है। बिहार में दोनों दल अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैैं और एक-दूसरे पर तीखे हमले भी कर रहे हैं।

हारने के लिए नहीं दे सकता था सीट

राज्यसभा सदस्य मीसा भारती के आवास पर जुटे पत्रकारों के सवाल पर लालू ने कहा कि गठबंधन क्या होता है? यह हारने के लिए नहीं होता। कांग्रेस की जमानत जब्त हो जाती है। उसे हारने के लिए सीट नहीं दे सकता था। लालू से सवाल यह भी पूछा गया कि भक्तचरण ने आरजेडी पर पर बीजेपी के लिए काम करने का आरोप लगाया है तो उनका जवाब था कि भक्तचरण भकचोन्हर हैं। उन्हें कुछ नहीं आता।

विस उपचुनाव में जीत का किया दावा

लालू ने तारापुर और कुशेश्वरस्थान दोनों सीटों पर अपनी जीत का दावा किया। विधानसभा के आम चुनाव में गठबंधन के तहत राजद ने कांग्रेस को 70 सीटें दी थीं, जिसमें मात्र 19 पर जीत मिली थी। राजद इसी मुद्दे पर बार-बार कांग्रेस की खिंचाई भी करते रहा है। उसके स्ट्राइक रेट पर सवाल उठाता रहा है।

तेजस्वी और तेज प्रताप के बीच सब ठीक

लालू ने अपने परिवार में चल रहे झगड़े पर भी मीडिया के सवालों का जवाब दिया। उन्होंने तेजस्वी और तेज प्रताप यादव के बारे में कहा कि दोनों उनके बेटे हैं। दोनों के बीच सब ठीक है। उन्होंने चुनाव प्रचार में भी जाने का संकेत दिया और कहा कि जो लोग कोर्ट का हवाला देकर मेरे चुनाव प्रचार का विरोध कर रहे, उन्हें नहीं पता कि अदालत ने मुझे आधी सजा काटने के आधार पर जमानत दी है। कहा कि सेहत ने साथ दिया तो प्रचार के लिए भी जा सकता हूं। राजनीतिक सक्रियता पर कोई बंदिश नहीं है।

लालू यादव के बयान से गरमाई सियासत

लालू प्रसाद के कांग्रेस प्रभारी भक्‍त चरण दास को लेकर दिए गए आपत्तिजनक बयान पर कांग्रेस नेता प्रमचंद मिश्र ने कहा कि इससे आरजेडी सुप्रीमो का फ्रस्‍टेशन झलकता है। उनके जैसे बड़े नेता से अमर्यादित बयान की अपेक्षा नहीं थी। ऐसे में कांग्रेस भी चुप नहीं रहेगी। कांग्रेस के प्रवक्ता असित नाथ तिवारी ने कहा कि लालू की टिप्‍पणी केवल एक व्यक्ति का अपमान नहीं, बल्कि पूरे दलित समुदाय का अपमान है। लालू का बयान उनकी सामंती सोच का नतीजा है। लालू पुत्र मोह में सामंतवादी होते जा रहे हैं। उन्‍हें व उनकी पार्टी को दलित समाज से माफी मांगनी चाहिए। उधर, आरजेडी प्रवक्‍ता मृत्‍युंजय तिवारी ने कहा कि लालू तब भी कांग्रेस के साथ थे, जब सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को विदेशी मूल का बताकर हमला किया जा रहा था। कांग्रेस के साथ आरजेडी का पुराना रिश्‍ता रहा है, लेकिन कुछ लोग उलूल-जुलूल बोल रहे हैं, जिसे बर्दाश्‍त नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़ें

राजद सुप्रीमो लालू की पटना में एंट्री, अगवानी करने पहुंचे तेजप्रताप-तेजस्वी; राबड़ी आवास पर जुटे समर्थक

Edited By: Amit Alok