पटना [जेएनएन]। भारी बारिश के कारण जल-जमाव के कारण पटना के राजेंद्र नगर (Rajendra Nagar) स्थित अपने निजी घर में परिवार के साथ फंसे बिहार के उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी (Sushil Modi) को एनडीआरएफ (NDRF) की टीम ने रेस्‍क्‍यू (Rescue) किया। इसे लेकर राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad yadav) ने सपरिवार नीतीश सरकार (Nitish Government) के विकास के दावे पर हमला किया है। रेस्‍क्‍यू के बाद सड़क पर परिवार के साथ खड़े सुशील मोदी की तस्‍वीर शेयर करते हुए लालू ने ट्वीट किया  कि 15 साल का विकास (Development) सड़क पर खड़ा है।

लालू का तंज- भगवान के घर देर है, अंधेर नहीं

सुशील मोदी की तस्‍वीर शेयर करते हुए लालू प्रसाद यादव ने तंज कसा है कि उन्‍होंने विपक्ष को गाली दे-देकर बिहार में इतना विकास किया है कि अब मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के साथ किया उनका 15 वर्ष का विकास सड़क पर खड़ा है। तस्‍वीर पर लालू ने यह भी लिखा है, ''गरीबों का घर उजाड़ने वाले आज खुद रोड पर आ गए। भगवान के घर देर है, अंधेर नहीं।''

तेजस्‍वी बोले: यह बिहार की त्रासदी की तस्वीर

सुशील मोदी के रेस्‍क्‍यू की तस्‍वीर के साथ लालू प्रसाद यादव के बेटे व बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने ट्वीट किया कि यह बिहार की त्रासदी की तस्वीर है। तेजस्‍वी ने लिखा कि पटनावासियों ने 35 वर्षों से सुशील मोदी और उनकी पार्टी को सभी चुनावों में जिताया है। वे ख़ुद 15 वर्ष से सरकार में नगर विकास मंत्री रहे हैं। अगर उन्होंने जल निकासी का फंड भ्रष्टाचार में बहाने के बदले काम में लगाया होता तो आज इस अवस्था में ना होते।

राबड़ी ने भी साधा निशाना, कही ये बात

लालू प्रसाद यादव की पत्‍नी व बिहार विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष राबड़ी देवी (Rabri Devi) ने भी सुशील मोदी पर निशाना साधा। उन्‍होंने ट्वीट किया कि 20 वर्ष पहले आरजेडी की सरकार के समय सीवरों की नियमित सफ़ाई होती थी। तब भारी बारिश के कारण अगर एक-दो घंटे कुछ इंच जलजमाव भी होता था तो उसी पानी में सुशील मोदी नौटंकी करने धरने पर बैठ जाते थे। अब उनके 15 वर्ष के राज में चार दिन से पांच-छह फीट गंदा पानी जमा है। राबड़ी ने सुशील मोदी से तंज भरा सवाल किया है कि क्‍यों नहीं नौटंकी कर धरना देते हैं? 

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप