पटना, जागरण टीम। Politics in Bihar on Mohammad Shahabuddin Death: सिवान के पूर्व सांसद और राजद के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन की मौत के बाद बिहार में सियासत थमने का नाम नहीं ले रही है। पिछले तीन सालों से अपनी और अपनी पार्टी की छवि को सुधारने में जुटे तेजस्‍वी यादव को इंटरनेट मीडिया पर चले अभियान ने मजबूर कर दिया, जिसके बाद उन्‍हें एक के बाद एक ताबड़तोड़ लगातार तीन बयान ट्वीट कर अपनी स्थिति स्‍पष्‍ट करनी पड़ी। दरअसल शहाबुद्दीन मामले में लालू परिवार और राजद पर बेरुखी का आरोप लगाकर इंटरनेट मीडिया पर बकायदा अभियान छेड़ दिया गया है। बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री जीतन राम मांझी भी इस अभियान में शामिल हो गए। इधर, एआइएमआइएम के असदुद्दीन ओवैसी भी मैदान में कूद गए तो मुस्लिम वोट छिटकने की चिंता ने लालू परिवार को परेशान कर दिया।

तेजस्‍वी ने क्‍या कहा, इससे पहले ये जानिए कि क्‍यों कहा

इस मसले पर लालू प्रसाद यादव के छोटे बेटे तेजस्‍वी यादव ने काफी कुछ कहा, जिसे हम आगे बताएंगे। लेकिन, इससे पहले ये जान लीजिए कि इंटरनेट पर लालू परिवार को घेरने की कोशिश किस तरह हुई। सोमवार को शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा शहाब के नाम वाले प्रोफाइल से किया गया एक ट्वीट वायरल होने लगा, जिसमें कहा गया कि अगर पूर्व सांसद के शव को बिहार नहीं लाने दिया गया तो राजद की कब्र खुद जाएगी। हमने पड़ताल की तो पाया कि बाद में यह अकाउंट की डिलीट कर दिया गया। हालांकि तब तक कई न्‍यूज पोर्टल इसे शहाबुद्दीन के बेटे का बयान बताकर खबरें चलाने लगे थे।

तेजस्‍वी यादव ने सरकार के सिर फोड़ा ठीकरा

बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने पूर्व सांसद शहाबुद्दीन का शव सिवान न लाए जाने का ठीकरा सरकार पर फोड़ा है। तेजस्वी ने कहा कि मैंने और राष्ट्रीय अध्यक्ष ने स्वयं तमाम कोशिशें की, परिजनों के संपर्क में रहें लेकिन सरकार ने हठधर्मिता अपनाते हुए टाल-मटोल कर आख़िरकार मय्यत को उनके आबाई वतन सिवान लाने की इजाज़त नहीं दी। अंत तक शासन-प्रशासन ने कोविड प्रोटोकॉल का हवाला देकर अड़ियल रुख़ बनाए रखा।

तेजस्‍वी ने कहा- राजद उनके साथ हमेशा खड़ा

तेजस्‍वी ने कहा कि पोस्टमॉर्टम के बाद पुलिस प्रशासन उन्हें कहीं और दफ़नाना चाह रहा था, लेकिन काफी मशक्कत के बाद परिजनों के दिए विकल्प आइटीओ कब्रिस्तान की अनुमति दिलाई गई। उन्होंने कहा कि हम ईश्वर से मरहूम शहाबुद्दीन की मग़फ़िरत की दुआ करते हैं और प्रार्थना करते हैं कि उन्हें जन्नत में आला मक़ाम मिले। उनका निधन पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है। राजद उनके परिवार वालों के साथ हर मोड़ पर खड़ी रही है और आगे भी रहेगी।

साजिशकर्ता को बचाने की चल रही सियासत : एजाज़ अहमद

राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता व पूर्व  प्रवक्ता एजाज अहमद ने कहा कि पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की मौत के बाद कुछ लोग गुमराही की सियासत में लग गए हैं। उनकी मौत की साजिश में संलिप्त लोगो को बचाने की नियत से ही से  इस मामले को दूसरी दिशा की ओर मोड़ने का अभियान चलाया जा रहा है। इस साजिश में तिहाड़ जेल प्रशासन और दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल की महत्वपूर्ण भूमिका रही  है जिसकी जांच होनी चाहिए ।