पटना [जेएनएन]। बिहार मुद्दे पर दिल्ली में गुरुवार को महागठबंधन का महाजुटान हुआ। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तक निशाने पर रहे। लेकिन सबसे बड़ी बात कि इस महाजुटान में सदेह मौजूद नहीं रहते हुए भी राजद सुप्रीमो लालू यादव छाये रहे। उनका कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल से लेकर महागठबंधन में शामिल हुए रोलसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा तक ने लालू यादव का गुणगान किया। 

बिहार के कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने दिल्ली के प्रेस कॉन्फ्रंस में तो खुलकर लालू यादव की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि यदि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बात ​मान लिये होते तो एनडीए में उनसे मजबूत नेता देश में कोई नहीं होता। उन्होंने कहा कि लालू यादव उनकी बात नहीं मानने की सजा भुगत रहे हैं। 

वहीं महागठबंधन का दामन थामने वाले रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने भी लालू यादव के कार्यकाल की सराहना की। उन्होंने कहा कि लालू यादव का समर्थन उनकी पार्टी को मिलता रहा है औन उनकी मांग को भी वे सपोर्ट करते रहे हैं। इतना ही नहीं, उन्होंने तेजस्वी यादव के काम की भी प्रशंसा की। कहा कि तेजस्वी ने शिक्षा के क्षेत्र में सही सवाल उठाया था। उनके शिक्षा में सुधार का राजद की ओर से भरपूर समर्थन मिल रहा है। रालोसपा गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को लेकर डेढ़ साल से अभियान चला रही है। 

गौरतलब है कि गुरुवार को दिल्ली में कांग्रेस कार्यालय में बिहार महागठबंधन के नेता जुटे। इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी आरएलएसपी के यूपीए में शामिल होने की घोषणा की। मौके पर कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, हिंदुस्तानी अवामी मोर्चा (हम) के अध्यक्ष जीतनराम मांझी, लोजद सुप्रीमो शरद यादव मौजूद भी मौजूद रहे।

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप