पटना, जेएनएन। रूरल डेवलपमेंट काउंसिल ने हार्वेस्ट प्लस के सहयोग से बिहार में देश का पहला न्यूट्रिशनल विलेज विकसित करने की बीड़ा उठाया है। पटना जिले के दुल्हिन बाजार प्रखंड के कुकरीबीघा गांव को न्यूट्रिशनल विलेज बनाया जाएगा। यहां सिर्फ पोषण युक्त अनाज की खेती होगी। इसकी शुरुआत रविवार को बिहार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार व भाजपा के राष्ट्रीय कार्यसमिति सदस्य व पश्चिम बंगाल के प्रभारी रवींद्र रंजन ने की।

महिंद्रा एंड महिंद्रा किसानों को करेंगी सहयोग

किसानों को संबोधित करते हुए कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने बताया कि कुकरीबीघा को न्यूट्रिशनल विलेज के रूप में विकसित करने में महिंद्रा एंड महिंद्रा किसानों को जोताई के उपकरण व कोरटेक कंपनी जैविक उर्वरक, कीटनाशक व बीज उपलब्ध कराने में सहयोग करेगी।

बामेति से प्रशिक्षण 

कृषि मंत्री ने कहा कि किसानों को बामेती (बिहार एग्रीकल्चर मैनेजमेंट एंड एक्सटेंशन ट्रेनिंग) द्वारा प्रशिक्षण मिलेगा। यहां के किसानों से अन्य गांव के किसान प्रशिक्षण लेकर बायोफोर्टिफाइड बीज तैयार कर उन्नत खेती की शुरुआत करेंगे। यहां तैयार बीजों में कुपोषण से लड़ने की क्षमता अत्यधिक होगी। बायोफोर्टिफाइड प्रभेद के गेहूं, चावल व दलहन के बीजों का विकास हो चुका है।

यू-ट्यूब से सीखकर पांच वर्षों से खेती कर रहे राम विनय 

कुकरीबीघा के किसान रामविनय कुमार यादव समेत आधा दर्जन किसानों ने मंत्री प्रेम कुमार को लौंग, काला गेहूं व इलायची का पौधा देकर सम्मानित किया। रामविनय ने बताया कि यू-ट्यूब पर देखकर पिछले पांच वर्षों से गांव में जैविक खेती कर रहे हैं। 22 किसानों से समन्वय स्थापित कर वे जैविक किसान के नाम से समूह बनाए हुए हैं। मखलीलपुर, पैनापुर सहित आधा दर्जन गांवों में किसानों का समूह तैयार कर रहे हैं।

बांटे गए वेस्ट डी कम्पोजर 


बामेति विनय जैविक किसान समूह द्वारा तैयार वेस्ट डी कम्पोजर का मदर कल्चर 15 हजार किसानों के बीच वितरण किया गया। मौके पर बामेति के निदेशक डॉ. जितेंद्र कुमार, रूरल डेवलमेंट काउंसिल के जोनल हेड अविनाश कुमार राय, एरिया मैनेजर संदीप कुमार, बीएओ अभिषेक कुमार आत्मा के अध्यक्ष चंदेश्वर वर्मा मौजूद थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप