पटना [आशीष शुक्ल]। राजधानी के मीठापुर बस स्टैंड के पास से पकड़ा गया मुंबई का मोस्टवांटेड और कभी दाऊद इब्राहिम का करीबी रहा एजाज लकड़ावाला नाम बदलकर नेपाल में रह रहा था। उसने पिछले दो सालों से नेपाल को अपना स्थायी ठिकाना बना लिया था। उसके बारे में यह भी कहा जा रहा है कि एजाज ने बेटी और भाई, भतीजे की गिरफ्तारी के बाद मजबूरी में मुंबई क्राइम ब्रांच के सामने आत्मसमर्पण किया है। हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हुई है। 

एजाज नेपाल में ही छुपा था, नहीं तलाश सकी थी पुलिस 

बता दें कि एक साल पहले मुंबई पुलिस को सूचना मिली थी कि एजाज नेपाल में छिपा है, लेकिन उसका सही ठिकाना नहीं मालूम हो सका था। सूत्रों की मानें तो पिछले साल मुंबई क्राइम ब्रांच ने एजाज के बड़े भाई अकील और भतीजे समीर को गिरफ्तार किया था।

पूछताछ में अकील ने बताया कि कि एजाज की बेटी सोनिया ने एक बिजनसमैन से शादी की है और वह विदेश भागना चाहती है। अकील ने ही मुंबई क्राइम ब्रांच को बताया था कि एजाज की पत्नी उमा नेपाल में ही रह रही है। उसकी बेटी भी वहां आती-जाती रहती है।

उस जानकारी के बाद से ही मुंबई क्राइम ब्रांच नेपाल में खुफिया विभाग के संपर्क में आ गई, लेकिन एजाज की पहचान और सही ठिकाना मिलना मुश्किल था, क्योंकि पूर्व में भी वह अमेरिका, मलेशिया और कंबोडिया में फर्जी नामों से रह चुका था। उसके बाद मुंबई पुलिस लगातार उसकी बेटी पर नजर रख रही थी।

बेटी की गिरफ्तारी से एजाज को पकड़ना हुआ आसान

दिसंबर के आखिरी सप्ताह में जब वह मुंबई से नेपाल जाने के लिए एयरपोर्ट पर पहुंची तो उसको गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ के बाद उसने ही अपने पिता एजाज के सही ठिकाने से लेकर संपर्क नंबर तक क्राइम ब्रांच को दे दिया। 

नेपाल से है एजाज का गहरा रिश्ता, फैला रखा है काला कारोबार

नेपाल में एजाज लकड़ावाला ने कपिलवस्तु में खुद का मोटर गैराज खोल लिया था और उसकी आड़ में सोना तस्करी, ड्रग्स, नकली नोट तक का धंधा करता था। इसके अलावा नेपाल से ही मुंबई की फिल्मी हस्तियों से लेकर बड़े कारोबारियों से हफ्ता वसूलता था। उसे वहां के लोग मुबारक खान के नाम से जानते थे और करीबी भाईजान के नाम से पुकराते थे। 

पत्नी चलाती थी एजाज का कारोबार

सूत्रों की मानें तो एजाज ने खुद नेपाल शिफ्ट होने से पहले अपनी पत्नी उमा थडानी उर्फ रेखा को छह साल पहले ही पोखरा भेज दिया था, जहां उसका कपड़े का कारोबार चल रहा था। इस बीच एजाज कनाडा में होटल का कारोबार कर रहा था। होटल उसके करीबी चला रहे थे।

इसके अलावा वह दक्षिण अफ्रीका से लेकर कंबोडिया, घाना में भी सक्रिय था। कई बार वह अपनी पत्नी से मिलने नेपाल जाता था। करीब चार साल तक वह अपनी पत्नी से मिलने आता-जाता रहा। भारत से करीब होने और ज्यादा सुरक्षित होने के कारण एजाज दो साल पहले वहां शिफ्ट हो गया।

सूत्रों की मानें तो कुछ माह पूर्व पूर्णिया में बरामद नकली नोटों की खेप में भी एजाज के करीबियों का हाथ सामने आया था लेकिन, पुलिस उस तक नहीं पहुंच सकी थी। 

  

 

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस