पटना [राजेश ठाकुर]। Khaki uniforms are getting tainted in Bihar: बिहार में इन दिनों खाकी वर्दी के प्रति लोगों का गुस्‍सा अचानक बढ़ गया है। वे पुलिस के खिलाफ सड़कों पर तो उतर ही रहे हैं। अब मामला इससे आगे भी बढ़ गया है। कहीं थानेदार पिटा रहे हैं तो कहीं उनकी गिरफ्तारी भी हो रही है। गुरुवार को शराब के मामले में एक ही दिन दो-दो थानेदार गिरफ्तार हो गए। इतना ही नहीं, शुक्रवार को गया में सलैया थाना के थानेदार पर लोगों ने हमला कर दिया। विजय दशमी के दिन सुपौल में भी इसी तरह का गुस्‍सा लोगों ने थानेदार पर उतारा था। साथ ही उसका वीडियो भी वायरल कर दिया था। जबकि, पिछले माह 21 सितंबर को मुजफ्फरपुर में एक हवलदार की गोली मारकर हत्‍या कर दी थी। उस समय हलवदार वाहन चेकिंग कर रहा था। 

गया: 11 अक्‍टूबर 

नया मामला गया का है। गया जिले के इमामगंज प्रखंड के सुहैल सलैया थाना में शुक्रवार को उस समय अफरातफरी मच गई, जब वारंटियों ने थानेदार समेत पुलिस की टीम पर हमला कर दिया। दरअसल शुक्रवार को सलैया पुलिस जमीनी विवाद मामले में जगदीश भुइयां सहित 8 लोगों के खिलाफ वारंट जारी था। आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए गांव में पुलिस पहुंची थी। टीम का नेतृत्‍व खुद सलैया के थानेदार अजय सिंह कर रहे थे। उनके साथ अन्‍य पुलिस के जवान थे। इसी दौरान वारंटियों ने पुलिस पर पीछे से हमला कर दिया। लकड़ी के बड़े-बड़े टुकड़ों से उन पर जानलेवा हमला कर दिया। इस हमले में थानेदार अजय सिंह समेत एसआई सिकंदर पासवान और पंकज कुमार सिंह भी घायल हो गए।

मुजफ्फरपुर: 10 अक्‍टूबर 

गया से ठीक एक दिन पहले मुजफ्फरपुर का मामला सामने आया। यहां पुलिस ने अपनी करनी के कारण वर्दी को दागदार कर दिया। मीनापुर के थानेदार रजनीश कुमार के कमरे से शराब मिलने पर एसएसपी मनोज कुमार ने कड़ी कार्रवाई करते हुए उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया। इसके पहले थानेदार को हिरासत में लेकर लंबी पूछताछ हुई। पुलिस के अनुसार थानेदार के कमरे से दो बोतल शराब बरामद की गई थी। इसके अलावा अन्‍य कमरे से भी काफी मात्रा में शराब मिली थी। 

दरभंगा: 10 अक्‍टूबर 

देखें तो बिहार पुलिस के लिए गुरुवार का दिन ही खराब रहा। मुजफ्फरपुर की तरह दरभंगा में ही श्‍राब के चक्‍कर में थानेदार हत्‍थे चढ़ गए। सुबह में दरभंगा के फेकला ओपी के प्रभारी बासुदेव सिंह को शराब के नशे की हालत में गिरफ्तार किया गया। टाउन एसपी योगेंद्र कुमार के निर्देश पर फेकला थाना के प्रभारी को पुलिस कब्‍जे में लिया गया। दअरसल बासुदेव सिंह के खिलाफ स्थानीय लोग लगातार शिकायत कर रहे थे। इतना ही नहीं, नशे की हालत में थाना प्रभारी हमेशा स्‍थानीय लोगों के साथ दुर्व्यवहार किया करते थे। गिरफ्तार किए जाने के बाद बासुदेव सिंह को निलंबित कर दिया गया है।

सुपौल: 8 अक्‍टूबर 

यह मामला सुपौल के छातापुर का है। वहां पुलिस ने विसर्जन के दिन मंगलवार को दबंगई दिखाई। फिर लोग कहां माननेवाले थे, वे भी भिड़ गए। उन्‍होंने थानेदार को पीट दिया। दरअसल, मंगलवार को एक बाइक दुर्घटनाग्रस्‍त हो गई। इसके बाद पीड़ित के घर पुलिस पहुंची और दबंगई दिखाने लगी। इससे आक्रोशित लोगों ने पुलिस को लाठी-डंडे के साथ खदेड़ दिया। इससे उग्र हुए थानेदार ने लाठी चलाना शुरू कर दिया। तब लोगों का गुस्‍सा और अधिक भड़क गया। लोगों ने थानाध्यक्ष राघव शरण को जमकर पीट दिया। घटना के बाद लोगों ने सड़क जाम भी कर दी। इस पिटाई का वीडियो भी वायरल हो गया। 

मुजफ्फरपुर: 21 सितंबर 

पीटने-पिटाने से इतर नृशंस घटना मुजफ्फरपुर में ही घटी। दिनदहाड़े अपराधियों ने हवलदार मलेश्वर की गोली मारकर हत्‍या कर दी। हवलदार मारकन पुलिस चेकपाेस्ट पर वाहनों की जांच कर रहा था तभी अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया। उसकी कार्बाइन भी लूट ली थी। घटना सकरा थाना क्षेत्र में हुई थी। घटना को अंजाम देकर वारदात को अंजाम देने के बाद बाइक सवार सभी अपराधी भाग निकले। मृतक हवलदार मलेश्वर राम मुंगेर जिले के मुफस्सिल थाना के सीताकुंड हसनपुर गांव के रहने वाले थे।

 

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप