पटना, जेएनएन। राजधानी में खादी अपने परंपरागत दायरे को तोड़कर दिखेगी। खादी अब युवाओं और बच्चों तक को आकर्षित करती दिखेगी। यहां खादी का इंद्रधनुषी रंग देखने को मिलेगा। खादी मॉल को सोमवार तक अंतिम रूप देने का दावा किया जा रहा है। गांधी मैदान के पूर्वी छोर पर स्थित इस मॉल का उद्घाटन तीन अक्टूबर को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे। यह पूरी तरह से वातानुकूलित है।

खादी मॉल में एक छत के नीचे सभी तरह की खादी, भागलपुर का सिल्क, हैंडलूम, मधुबनी पेंटिंग, उपेंद्र महारथी शिल्प संस्थान के उत्पाद के साथ मधु और किसान चाची का अचार आदि नये अंदाज में दिखेंगे। खादी के उत्पाद बिक्री करने वाले युवा और युवतियां ग्लैमरस लुक में दिखेंगी। यहां बच्चों के लिए खादी के एक से एक परिधान मिलेंगे। इसके लिए विशेष व्यवस्था की गई है।

युवा, वृद्ध और महिलाओं के लिए अलग सेल रहेगी। साड़ी बिक्री केंद्र में बैठकर साड़ी दिखाने की व्यवस्था की गई है। महिला और पुरुष के लिए अलग-अलग ट्रायल रूम बना है। मॉल में साड़ी, शर्ट-पैंट और कुर्ता के साथ ही कई तरह के वस्त्र मिलेंगे। तीसरे तल पर मिलेगा लिट्टी-चोखा ग्राउंड, प्रथम और द्वितीय तल पर कपड़े तथा तृतीय तल पर रेस्टोरेंट की व्यवस्था की गई है।

लिट्टी-चोखा के साथ यहां बिहारी व्यंजन परोसने की तैयारी है। स्क्रीन टच करते ही मिलेगी सभी उत्पादों की जानकारी खादी मॉल में प्रवेश करते ही 50 इंच के स्क्रीन वाला कियोस्क मिलेगा। इसके स्क्रीन टच करते ही मॉल के सभी उत्पादों की जानकारी मिल जाएगी। यहीं पर लोग तय कर लेंगे कि कहां जाना है और क्या लेना है। मॉल में प्रवेश करते ही महात्मा गांधी की आदमकद मूर्ति और उनका प्रिय चरखा दिखेगा।

बिहार खादी ग्रोमोद्योग बोर्ड के सीइओ बीएन प्रसाद ने कहा कि खादी मॉल में राज्य के सभी क्षेत्रों में उत्पादित खादी को नये अंदाज में परोसा जाएगा। इससे खादी उत्पादन में लगे लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा।

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप