पटना [जेएनएन]। जनता दल यूनाइटेड (JDU) राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी (National Executive Committee) की बैठक के बाद पार्टी के राष्‍ट्रीय महासचिव केसी त्‍यागी (KC Tyagi) ने बड़ा बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि अगर उनकी पार्टी को संख्‍या बल के आधार पर (Propertional Representation) जगह मिलती है तो वह केंद्रीय मंत्रिमंडल (Central Cabinet) में शामिल होने के लिए तैयार है। उनके इस बयान को आगामी बिहार विधान सभा चुनाव (Bihar Assembly Election) से जोड़कर देखा जा रहा है।

दूसरी बार पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बने नीतीश कुमार

जेडीयू की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुधवार को दिल्‍ली में हुई। इसके बाद राष्‍ट्रीय परिषद की बैठक में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के जेडीयू अध्‍यक्ष (JDU President) बनने पर अंतिम मुहर लग गई। उन्‍होंने बतौर राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष दूसरी बार पदभार ग्रहण कर लिया। बैठकों में आगामी बिहार विधानसभा चुनाव पर भी चर्चा हुई। इसके बाद केसी त्‍यागी के बयान के गहरा अर्थ लगाया जा रहा है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने को तैयार जेडीयू

बैठक के बाद केसी त्‍यागी ने कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद मंत्रिमंडल गठन के वक्‍त जेडीयू ने एक मंत्री पद की पेशकश को इनकार कर दिया था। अगर संसद में संख्‍या बल के अनुपात में जगह मिले तो जेडीयू केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए तैयार है। उन्‍होंने यह भी कहा कि जेडीयू ने बिहार में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की सरकार में भारतीय जनता पार्टी (BJP) का उपमुख्‍यमंत्री (Dy CM) बनाया है।

केसी त्‍यागी के पुराने बयान को ही फिर दुहराया

गौर करें तो केसी त्‍यागी के बयान में कोई नई बात नहीं है। जेडीयू ने मंत्रिमंडल के गठन के वक्‍त आनुपातिक प्रतिनिधित्‍व नहीं मिलने के कारण ही इनकार किया था और आज भी आनुपातिक प्रतिनिधित्‍व मिलने पर मंत्रिमंडल में शामिल होने की बात कह रहा है।

तलाशे जा रहे बयान के निहितार्थ

केसी त्‍यागी के बयान में कोई नई बात भले ही नहीं हो, लेकिन इसकी टाइमिंग महत्‍वपूर्ण है। माना जा रहा है कि पार्टी का यह बयान संभावित मंत्रिमंडल विस्‍तार को लेकर दिया गया है। इसे बिहार विधानसभा चुनाव से जोड़कर भी देखा जा रहा है।

बिहार में जेडीयू का एक धड़ा नीतीश कुमार का आलोचक रहा है। बीते दिनों पटना में जलजमाव (Waterlogging) के मुद्दे पर बीजेपी के कई नेता खुलकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ बयानबाजी करते देखे गए थे। हालत इतनी बिगड़ी कि जेडीयू महासचिव केसी त्‍यागी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) व बीजेपी सुप्रीमो अमित शाह (Amit Shah) से हस्‍तक्षेप की मांग की। बाद में अमित शाह ने बिहार विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार के नेतृत्‍व में लड़ने कर बात कह स्थिति संभाली थी। केसी त्‍यागी का ताजा बयान अमित शाह के उस बयान से जोड़कर जेडीयू व बीजेपी के अच्‍छे संबंध के रूप में भी देखा जा रहा है।

 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप