पटना [राज्य ब्यूरो]। प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग का पुरजोर समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार पर यह आरोप सरासर झूठ है कि उसने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा या स्पेशल पैकेज को लेकर कुछ नहीं किया।

कादरी ने शनिवार को एक बयान जारी कर कहा कि यूपीए सरकार के दौरान बिहार में बाढ़ या सुखाड़ की स्थिति में विशेष सहायता मिलती रही है। यूपीए सरकार के दौरान हर वर्ष बिहार को 8,464 करोड़ की अतिरिक्त सहायता प्रदान की गई है। यहां तक कि बिहार में दो-दो केंद्रीय विश्वविद्यालय की स्वीकृति भी यूपीए सरकार की देन है।

कादरी ने कहा कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने के मापदंड में बदलाव के लिए 15 मई, 2013 को रघुराम राजन के नेतृत्व में एक कमेटी का गठन किया गया था। इस कमेटी ने 2 सितंबर, 2013 को अपनी रिपोर्ट सौंप दी। रघुराम राजन 4 सितंबर, 2013 को भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर नियुक्त किए गए। उसके बाद यह रिपोर्ट सुधा पिल्लई के नेतृत्व में अंतरमंत्रालयी चर्चा के लिए सौंपा गया था। लेकिन मई, 2014 में केंद्र की सरकार बदलने के बाद उस रिपोर्ट को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया।

बागुन सुम्ब्रई के निधन पर शोक

बिहार व झारखंड के वयोवृद्ध कांग्रेसी नेता व पूर्व सांसद बागुन सुम्ब्रई के निधन पर प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने गहरी संवेदना व्यक्त की है। कादरी ने कहा कि बागुन सुम्ब्रई पांच बार अविभाजित बिहार से लोकसभा सांसद, चार बार विधानसभा सदस्य तथा कई बार मुखिया चुने गए। अलग झारखंड राज्य के गठन में बागुन सुम्ब्रई की बड़ी भूमिका रही है।

Posted By: Ravi Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस