पटना [जेएनएन]। मंगलवार को पहले ही दिन रेलकर्मियों ने मंडुआडीह से खुलने वाली काशी-पटना जनशताब्दी इंटरसिटी की हवा निकाल दी। ट्रेन बगैर टिकट निरीक्षक के वाराणसी से पटना तक पहुंच गई। ट्रेन में आरक्षण चार्ट तक नहीं उपलब्ध था जिससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। ट्रेन में मुगलसराय मंडल के टिकट निरीक्षकों की ड्यूटी लगाई गई थी।

यह संयोग ही था कि सोमवार को उद्घाटित ट्रेन के जब खाली रैक को मंडुआडीह भेजा जा रहा था तब पटना से टीटीई अनिल  को एहतियात के तौर पर वाराणसी तक भेज दिया गया था। वह अपनी ड्यूटी पूरी कर इसी ट्रेन से पटना लौट रहा था। कोई टिकट निरीक्षक नहीं देख उसने एसी कोच के यात्रियों को बैठने में मदद की।

वापसी में पटना जंक्शन के दो टीटीई को स्पेशल ड्यूटी पर मुगलसराय तक भेजा गया है। जानकारी के मुताबिक ट्रेन में मंडुआडीह से उदय पाल एवं नीरज कुमार नामक टीटीई की ड्यूटी लगाई गई थी। दोनों वाराणसी में ही ट्रेन से उतर गए।

Posted By: Ravi Ranjan