जागरण टीम, पटना। केंद्रीय इस्पात मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह उर्फ आरसीपी सिंह मंगलवार को अचानक दिल्ली के लिए रवाना हो गए हैं। पटना एयरपोर्ट पर जब उनसे जनता दल यूनाइटेड (जदयू) की ओर से राज्यसभा का टिकट मिलने से जुड़ा सवाल पूछा गया तो उन्होंने हाथ जोड़ लिया। अभी भी यह संशय बना हुआ है कि आरसीपी को जेडीयू टिकट देगा या नहीं। इस बीच उनका ट्विटर अकाउंट भी चर्चा में आ गया है। माइक्रो ब्लागिंग साइट पर आरसीपी की एक तस्वीर है और बैनर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का फोटो। बड़ी बात यह है कि उनके राजनीतिक दल जदयू का नाम-ओ-निशान कहीं नहीं दिख रहा। हाल के दिनों में नीतीश कुमार की तारीफ करने वाले आरसीपी के ट्विटर अकाउंट पर बिहार के सीएम की भी तस्वीर नदारद है। 

पूरे मसले पर आरसीपी ने कही ये बात

इस मसले पर आरसीपी सिंह ने कहा कि उनके ट्व‍िटर हैंडल पर काफी दिनों से ऐसा ही है। उन्‍होंने कहा कि वे केंद्र में मंत्री हैं और अपने ट्व‍िटर पर अगर प्रधानमंत्री की तस्‍वीर लगाए हुए हैं, तो इसमें सवाल किस बात के लिए हो सकता है। उन्‍होंने कहा कि जदयू और भाजपा का रिश्‍ता कई सालों का है, ऐसे में जदयू का नेता होने के नाते स्‍वभाविक तौर पर उनके रिश्‍ते भी भाजपा से बेहतर हैं। उन्‍होंने इसके लिए अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्‍व वाली एनडीए सरकार में नीतीश कुमार के कार्यकाल से लेकर अब तक की चीजों को गिनाया। उन्‍होंने कहा कि ऐसी अफवाहों का कोई मतलब नहीं है।

ताजा राजनीतिक घटनाक्रम में सुर्खियां बटोर रहा बदलाव

केंद्रीय इस्पात मंत्री आरसीपी सिंह के ट्विटर अकाउंट से कब जदयू और नीतीश कुमार की तस्वीर हटाई गई यह तो साफ नहीं है मगर ताजा राजनीतिक घटनाक्रम में यह बदलाव सुर्खियां बटोर रहा है। आरसीपी ने ट्विटर पर राज्यसभा सदस्य होने के साथ ही अपने मंत्रालय का जिक्र किया है। इसके साथ वह किस बैच के आइएएस आफिसर रहे हैं इसकी भी जानकारी दी है। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र होने की भी बात कही है। इन सबके बाद प्रोफाइल में कहीं जदयू का नाम नहीं। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह और नीतीश कुमार की भी कहीं तस्वीर नहीं है।

जदयू ने अबतक नहीं किया है प्रत्याशी का ऐलान

गौरतलब है कि जुलाई में बिहार के पांच राज्यसभा सदस्यों का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। नामांकन की तिथि 24 मई यानी आज से शुरू हो गई है। बड़ी बात यह है कि अबतक किसी भी राजनीतिक दल ने अपने पत्ते नहीं खोले हैं। भाजपा ने रविवार को 12 नाम केंद्रीय नेतृत्व को सौंपे हैं। इनमें वर्तमान राज्यसभा सदस्य गोपाल नारायण सिंह और सतीश चंद्र दुबे के अलावा मनोज शर्मा, मृत्युजंय झा, लाजवंती झा, प्रेम रंजन पटेल, सुरेश रूंगटा, मिथलेश तिवारी, अवधेश नारायण सिंह, महाचंद्र प्रसाद सिंह, राजेश वर्मा और वीरचंद्र पासवान शामिल हैं। इस बीच नजरें केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह पर टिकी हुई हैं। जदयू ने अबतक किसी का नाम साफ नहीं किया है। पत्रकारों ने जब इस संबंध में नीतीश से सवाल पूछा तो उन्होंने भी बात घुमा दी। सीएम ने कहा कि सही समय पर फैसला ले लिया जाएगा। 

Edited By: Akshay Pandey