जागरण टीम, पटना। लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के सांसद चिराग पासवान की परेशानियां कम होती नहीं दिख रही हैं। रविवार की रातोंरात तख्तापलट के बाद अब आने-जाने का दौर शुरू हो गया है। लोजपा संसदीय दल ने पशुपति कुमार पारस को पार्टी का नया अध्यक्ष चुन लिया है। सोमवार को जनता दल यूनाइटेड (जदयू) में लोजपा के सांसदों के जाने की अटकलें लगने लगी हैं। जदयू सांसद ललन सिंह ने लोजपा सांसद मीणा देवी के दिल्ली स्थित आवास पर पांचों सांसदों से मुलाकात की है।

मिली जानकारी के अनुसार सोमवार की दोपहर जदयू सांसद ललन सिंह ने लोजपा के सांसद पशुपति कुमार पारस, चौधरी महबूब अली कैसर, वीणा देवी, चंदन सिंह और प्रिंस राज से मुलाकात की है। यह मुलाकात बिहार की वैशाली लोकसभा सीट से सांसद वीणा देवी के आवास पर हुई है। ललन सिंह लोजपा के सांसदों से मिलने खुद पहुंचे थे। जदयू की ओर से लोजपा सांसदों की मुलाकात किस ओर करवट लेगी यह तो अभी साफ नहीं है लेकिन सियासी गलियारे में कई तरह की अटकलें तेज हो गई हैं। इस मुलाकात को जदयू की ओर से लोजपा के सांसदों के लिए दरवाजा खोलने के इशारे के रूप में भी देखा जा रहा है। हालांकि अभी तस्वीर साफ नहीं हुई है। लोजपा अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस और पांचों सांसद खुद को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) का ही हिस्सा बता रहे हैं। 

छह में से पांच सांसदों ने पशुपति को माना नेता

गौरतलब है कि रविवार की रात से ही लोजपा में बड़े परिवर्तन की पटकथा लिखी जाने लगी थी। पार्टी के छह में से पांच सांसदों ने चिराग पासवान के चाचा पशुपति पारस को अपना नेता मान लिया है। सोमवार की सुबह पशुपति लोजपा के अध्यक्ष चुन लिए गए हैं। बड़ी राजनीतिक उठापटक के बाद पशुपति से मिलने उनके घर पहुंचे चिराग को निराशा हाथ लगी। काफी देर इंतजार के बाद भी चिराग की लोजपा अध्यक्ष से मुलाकात नहीं हो पाई। 

Edited By: Akshay Pandey