राज्य ब्यूरो, पटना: जन अधिकार पार्टी (जाप) प्रमुख व पूर्व सांसद पप्पू यादव ने मांग की है कि पूर्व मंत्री व सारण से बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के प्रशिक्षण केंद्र में खड़ी एंबुलेंस मामले में महामारी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया जाए। पप्पू यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का ध्यान कौशल विकास के नाम पर हुए घोटाले की जांच कराने की ओर भी आकृष्ट किया है।

पप्पू ने लगाया धमकी देने का आरोप

पप्पू यादव ने शनिवार को पत्रकारों से बातचीत में राजीव प्रताप रूडी और उनके समर्थकों द्वारा धमकी देने का आरोप लगाया। कहा कि अगर जरूरत होगी तो हम ऑडियो भी सार्वजनिक करेंगे। बकौल पप्पू यादव, अगर हमें मार देने से बिहार की जनता को एंबुलेंस, दवाई और ऑक्सीजन आदि मिल जाए तो हम इसके लिए तैयार हैं। रूडी से मेरी कोई व्यक्तिगत दुश्मनी नहीं है, लेकिन उन्होंने जिस तरह से मुझे धमकी दी और राजनीति का आरोप लगाया वह शर्मनाक है। महामारी जैसे हालात को इंगित करते हुए जाप प्रमुख पप्पू यादव ने सांसद मद के अनुपयोगी पड़ी एम्बुलेंस को लेकर जनतांत्रिक व्यवस्था पर ही सवाल खड़ा कर दिया है। एम्बुलेंस के अभाव में कोविड मरीजों की दिक्कत का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि अमनौर में खड़ी एम्बुलेंस सरकारी संपत्ति है और सरकार को इसका उपयोग करना चाहिए।

एंबुलेंस को सियासी मोड़ देना जायज नहींः रूडी

वहीं इसके जवाब में सांसद राजीव प्रताप रूडी ने कहा कि पप्पू यादव राजनीति कर रहे हैं। सारण में उनके माध्यम से कोविड पीड़ितों को फ्री एम्बुलेंस सेवा दी जा रही है। कोरोना को लेकर चालक नहीं मिलने से कुछ एम्बुलेंस खड़ी हैं, जिसे सियासी मोड़ देना जायज नहीं है। हालांकि इसपर जाप प्रमुख ने त्वरित जवाब देते हुए शनिवार को कहा कि उनके पास 40 चालक मौजूद हैं। छपरा जिला प्रशासन इन चालकों से सांसद मद की एम्बुलेंस का संचालन कराए।

Edited By: Akshay Pandey