पटना, जेएनएन। कोरोना के डर से ब्लड प्रेशर व शुगर वाले सीनियर सिटीजन को अधिक परेशानी होने लगी है। 50 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों में ब्रेन हेमरेज के मामले अधिक आने लगे हैं। बीते तीन दिन में इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (आइजीआइएमएस) में 10 गंभीर मरीज पहुंचे।

तनाव के कारण हो रही परेशानी

सभी को आइसीयू में भर्ती किया गया। न्यूूरोलॉजी विभाग के डॉक्टर व चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मनीष मंडल स्वयं निगरानी कर रहे हैं। डॉ. मनीष मंडल के अनुसार कई स्वजनों ने फीडबैक दिया कि कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को लेकर लगातार मन में डर बना रहता था। डॉक्टरों का कहना है कि तनाव के कारण मरीजों की संख्या अधिक बढ़ गई है। डॉक्टरों का कहना है कि ऐसे में चिंता को दूर कर व्यायाम करने से अधिक लाभ होगा। 

नहीं मिल रहीं बीपी की कई दवाएं


मरीजों के स्वजनों के अनुसार बीपी की कई दवाएं स्थानीय बाजार में नहीं मिल रही है। लॉकडाउन व कोरोना वायरस के संक्रमण के भय के कारण घर से बाहर नहीं निकल पाते। हर समय एक अलग ही मानसिक दवाब बना रहता है। इसकी वजह से ब्रेन स्ट्रोक कर गया। 

मन में नहीं रखें डर, घर में ही करें व्यायाम


आइजीआइएमएस के कॉर्डियोलॉजी विभाग के एसोसिएट प्रो. डॉ. नीरव कुमार ने बताया कि कोरोना को लेकर मन में डर नहीं रखना है। 40 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कभी भी तनाव नहीं लेना चाहिए। सोशल मीडिया की खबरों पर ध्यान न दें। अपनी बीपी व शुगर की दवाएं नियमित लें। घर की छत पर ही घूमें। सुबह में योगासन, प्राणायाम, सूर्य नमस्कार और एक ही स्थान पर दौड़ लगा सकते है। जब घर में रह रहे हों तो बैठे ज्यादा खाने से बचें। तली-भूनी व नमकीन, पापड़, पकौड़ी आदि चीजों से परहेज रखें। अखरोट, बादाम, मौसमी फल नियमित रूप से लें। इससे इम्युनिटी पावर बेहतर रहेगा। 

Posted By: Akshay Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस