लवलेश कुमार मिश्र, पटना। बिहार विधानसभा चुनाव अब पूरी तरह रफ्तार में है। पहले चरण का मतदान संपन्न हो चुका है। अपनी-अपनी पार्टियों के प्रत्याशियों की जीत सुनिश्चित करने को शीर्ष नेता तो एड़ी-चोटी का जोर लगा ही रहे, अलग-अलग पार्टियों से जुड़े बॉलीवुड व भोजपुरी सिनेमा जगत के कलाकार भी प्रचार के लिए चुनावी मैदान में उतर गए हैं। पार्टियों की ओर से प्रत्याशियों की डिमांड पर अभिनेताओं की प्रतिदिन सभाएं कराई जा रही हैं, जिससे जनता को रिझाया जा सके और उनकी लोकप्रियता को भुनाया जा सके।

अभिनेताओं की सभाओं के आयोजन में एनडीए आगे 

बॉलीवुड कलाकारों की सभाओं के मामले में भाजपा ही आगे मानी जा सकती है। वैसे तो ये कलाकार एनडीए प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार कर रहे हैं, लेकिन इनकी ज्यादातर सभाएं भाजपा उम्मीदवारों के पक्ष में ही हुई हैं। इस पार्टी की ओर से अब तक दिल्ली के सांसद और भोजपुरी अभिनेता मनोज तिवारी, गोरखपुर के सांसद रवि किशन व कभी अभिनेत्री रहीं स्मृति ईरानी, भोजपुरी अभिनेता व भाजपा नेता दिनेशलाल यादव उर्फ निरहुआ आदि की कई चुनावी सभाएं हो चुकी हैं। ये कलाकार अपनी सभाओं में मतदाताओं को पार्टी की रीति-नीति से वाकिफ करा रहे और भोजपुरी शैली में भाषण व गाना गाकर वोटरों का दिल जीतने की जुगत कर रहे हैं। हालांकि निरहुआ ने कई सभाएं जदयू उम्मीदवार के पक्ष में भी की हैं।

लोजपा उम्मीदवार के पक्ष में अमीषा ने किया रोड-शो

कभी फिल्म 'गदर-एक प्रेमकथा' से बड़े पर्दे पर खूब सुर्खियां बटोरने वालीं अभिनेत्री अमीषा पटेल भी बिहार के सियासी मैदान में उतर चुकी हैं। हाल ही में उन्होंने पहले चरण के मतदान से पहले औरंगाबाद में लोक जनशक्ति पार्टी के एक प्रत्याशी के पक्ष में रोड-शो किया था। रोड-शो के बाद वह पटना आकर मुंबई वापस चली गईं। वैसे तो अमीषा का बिहार से कोई नाता नहीं रहा है, वह गुजराती मूल की हैं और परिवार महाराष्ट्र में रहता है। लेकिन उनकी लोकप्रियता को भुनाने के लिए रोड-शो कराया गया।

बिहारी व भोजपुरी पृष्ठभूमि को भुनाने की हो रही जुगत

भाजपा सहित एनडीए के अन्य दलों के लिए प्रचार करने वाले ज्यादातर अभिनेता भोजपुरी व बिहारी पृष्ठभूमि के हैं। मनोज तिवारी तो मूलत: बिहारी ही हैं, जबकि दिनेशलाल यादव व रवि किशन क्रमश: उत्तर प्रदेश के जौनपुर व गाजीपुर के मूल निवासी हैं। इन दोनों की पृष्ठभूमि भोजपुरिया है। लिहाजा, पार्टी की ओर से इसे भुनाने की भरपूर कोशिश हो रही।  

महागठबंधन के दलों ने किसी अभिनेता को नहीं उतारा

विधानसभा चुनाव का पहला चरण भले समाप्त हो गया, पर अभी महागठबंधन के दलों की ओर से कोई अभिनेता प्रचार करने नहीं पहुंचा है। दो चरणों में 172 सीटों पर मतदान होना अभी बाकी है। लिहाजा, इन दलों से भी कोई न कोई अभिनेता प्रचार के लिए उतर सकते हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस