छपरा, जागरण संवाददाता। बालू के अवैध खनन (Illegal Sand Mining) के परिवहन में लगे माफिया के साथ साठगांठ के आरोप में सारण जिले के गड़खा थाने के अपर थानाध्यक्ष (अनुसंधान) एसआइ शशि रंजन प्रकाश (Additional SHO Shashi Ranjan Prakash) को एसपी संतोष कुमार (SP Santosh Kumar) ने निलंबित कर दिया है। उनपर चार ट्रकों को पकड़ने और फिर साजिश के तहत छोड़ देने के मामले में कार्रवाई की गई है। एसपी ने बताया है कि अपर थानाध्यक्ष शशि रंजन प्रकाश ने बालू लदे कई ट्रकों को पकड़ा था। लेकिन उन्होंने इसकी सूचना पुलिस अधीक्षक अथवा एसडीपीओ को नहीं दी।

चाैकीदार पर लगाया ट्रकों को छोड़ने का आरोप 

एसपी ने बताया कि शशिरंजन ने मुफस्सिल अंचल के पुलिस निरीक्षक को इस बाबत जानकारी दी। लेकिन कुछ ही देर में बताया कि चौकीदार ने पकड़े गए ट्रकों को भगा दिया है। हालांकि उन्‍हें यह जानकारी मिली कि एसआइ शशि रंजन प्रकाश ने निजी स्वार्थ के लिए बालू माफिया से साठगांठ कर तहत पकड़े गए चारों ट्रक को छोड़ दिया। एसपी ने इसे बालू माफिया के साथ साठगांठ तथा मनमानापन, स्वेच्छाचारिता एवं अनुशासनहीनता का मामला मानते हुए एसआइ को निलं‍बित कर दिया है। इसके साथ ही छपरा सदर के एसडीपीओ एमपी सिंह को मामले की जांच कर साक्ष्य सहित विस्तृत प्रतिवेदन सुपुर्द करने का निर्देश दिया गया है। उनकी रिपोर्ट के आधार पर अगली कार्रवाई की जाएगी। 

कई अधिकारियों पर गिरी है गाज 

गौरतलब है कि अवैध बालू खनन के मामले में बिहार सरकार किसी तरह की राहत देने के मूड में नहीं है। छोटे से लेकर बड़े अधिकारियों तक पर शिकंजा कसा जा रहा है। इसी क्रम में बीते दिनों दो आइपीएस समेत कई अफसरों पर बिहार सरकार ने कार्रवाई की। अवैध बालू खनन के मामले में निलंबित अफसरों के आवास पर ईओयू की रेड भी हो रही है। इसमें आय से अधिक संपत्ति उजागर हो रही है। अब गड़खा के अपर थानेदार भी इस शिकंजे में आ गए हैं। 

Edited By: Vyas Chandra