पटना [जेएनएन]। दहेज के लोभ में अंधे शौहर (Husband)  ने ससुरालवालों के साथ मिलकर अपनी बीवी (Wife) को जिस्‍म की मंडी (Flesh Trade) में बेच दिया। वहां चार साल नर्क की जिंदगी गुजारने के बाद वह किसी तरह भागने में सफल रही। भागकर जब वह कटिहार के ही कोढ़ा स्थित अपने मायके पहुंची तो इस मामले का सनसनीखेज खुलासा हुआ। दिल हिला देने वाली यह शर्मनाक घटना बिहार के अररिया व कटिहार की है।

मुंहमांगी दहेज (Dowry) नहीं मिलने से नाराज ससुराल वालों के वधू (Bride) काे प्रताड़ित किया। जब इससे बात नहीं बनी तो उसे देह व्‍यापार के सौदागरों (Flesh Trade Racket) के हवाले कर दिया। इसके बाद उसे कानपुर स्थित जिस्म की मंडी (Red Light Area) में ले जाया गया, जहां वह चार साल तक रही।

दहेज के लिए ससुराल से निकाला

कटिहार के कोढ़ा थाना क्षेत्र की एक लड़की का निकाह अररिया जिला के निवासी मो. शमीम से सात साल पहले हुआ था। वधू के पिता ने निकाह के वक्‍त अपने सामर्थ्‍य के अनुसार दान-दहेज (Dowry) दिया था, लेकिन ससुराल वाले इससे संतुष्‍ट नहीं थे। इस कारण ससुराल में उसे प्रताड़ना दी जाने लगी। इसके बाद उसे ससुराल से निकाल दिया गया। वह मायके आ गई।

2015 में पहुंचा दिया रेड लाइट एरिया

साल 2015 में दोनों पक्षों के बीच पंचायत हुई, जिसके बाद ससुराल वाले वधू को ससुराल ले गए। इसके दो दिनों बाद वह अररिया स्थित ससुराल हालात में गायब हो गई। इसके चार साल बाद वह अब जाकर मायके लौटी है। उसने बताया है कि दहेज नहीं दे पाने के कारण ससुरालवालों ने उसे नशा देकर बेहोश कर दिया, फिर देह व्‍यापार के दलालों के हवाले कर दिया।

ऐसे हुआ मामले का खुलासा

वधू ने बताया कि कानपुर रेड लाइट एरिया में चार साल तक वह नर्क भाेगती रही। किसी तरह मौक पाकर वह वहां से भागी।

अब जल्‍द होगी गिरफ्तारी

घटना को पुलिस ने गंभीरता से लिया है। कटिहार के एसपी विकास कुमार ने कहा कि मामले की जांच चल नही है। वैसे, इसे प्रथमदृष्टया सही पाया गया है। पुलिस आरोपितों को जल्‍द ही गिफ्तार कर लेगी।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस