पटना [जेएनएन]। बिहार की राजधानी पटना में मंगलवार की सुबह ट्रिपल मर्डर से सनसनी फैल गई। कोतवाली थाना क्षेत्र में एक घर से तीन लोगों के खून से लथपथ शव बरामद किए गए। बताया जाता है कि पटना के एक बड़े व्‍यवसायी निशांत सर्राफ ने पहले पत्नी अलका सर्राफ और बेटी अनन्‍या की गोली मारकर हत्या कर दी, फिर खुद को भी गोली उड़ा लिया। घटना में जिंदा बच गए एक बच्चे इशांत को गंभीर अवस्था में इलाज के लिए नगर के एक निजी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। घटना के कारण फिलहाल अज्ञात हैं।
बड़ी उम्मीद से खोली थी दुकान, मेहमान बनी थीं अमीषा

विदित हो कि मृतक व्‍यवसायी निशांत ने हाल ही में पटना के खेतान मार्केट में रिटेल टेक्सटाइल दुकान की लॉन्चिंग की थी, जिसमें बॉलीवुड एक्‍ट्रेस अमीषा पटेल आई थीं। इस परिवार का कपड़ा के साथ-साथ ज्वेलरी का भी व्यवसाय है। उनके नाम से पटना में कई दुकान और व्यावसायिक कॉम्प्लेक्स हैं।



बिहार के बड़े कारोबारी अशोक सर्राफ के छोटे बेटे निशांत सर्राफ (37) ने अपनी लाइसेंसी पिस्टल से पत्नी अलका (35), बेटी अनन्या (08) और बेटे इशांत (4) को गोली मारने के बाद खुद को भी उड़ा लिया। इससे निशांत, अलका व अनन्या की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि बेटे इशांत की हालत नाजुक बनी है, उसका इलाज चल रहा है। घटना मंगलवार को कोतवाली थाना क्षेत्र की किदवईपुरी कॉलोनी के मकान संख्या-46 में हुई।

जानकारी‍ मिलते ही मौकेपर पहुंचे आलाधिकारी
सूचना के बाद मौके पर आइजी सुनील कुमार, एसएसपी गरिमा मलिक, सिटी एसपी पीके दास, डीएसपी कोतवाली डॉ. राकेश कुमार, कोतवाली  थानाध्यक्ष रामाशंकर सिंह, बुद्धा कॉलोनी थानाध्यक्ष डीके सिंह भी दलबल के साथ पहुंचे और मामले की छानबीन में जुटे। जांच के लिए फोरेंसिक टीम को भी बुलाया गया। घटनास्थल से एक पिस्टल, .32 एमएम गोली के चार खोखे, एक सुसाइड नोट तथा तीन मोबाइल बरामद हुए हैं। पिस्टल को बैलेस्टिक जांच के लिए भेजा गया है। वहीं मोबाइल व खोखे को फोरेंसिक जांच के लिए सुरक्षित रखा गया है। जांच-पड़ताल और कागजी कार्रवाई के बाद पुलिस ने तीनों शव को पोस्टमॉर्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया।

यह लिखा है सुसाइड नोट में
प्रथमदृष्टया घटना के पीछे पारिवारिक कलह की बात सामने आ रही है। सुसाइड नोट में लिखा पाया गया कि अपनी पत्नी, बच्चों और खुद की डेथ के लिए वह जिम्मेदार है। उसके मरने के बाद उसके परिवार पर कोई कानूनी कार्रवाई न की जाए। अंत में निशांत के हस्ताक्षर हैं। सुसाइड नोट में तारीख दस जून लिखी है।

शहर में काफी बड़ा कारोबार है

कारोबारी अशोक सर्राफ का पटना और पटना सिटी में कपड़ा, किराना, आभूषण व कंस्ट्रक्शन का बड़ा कारोबार है। उनका खेतान मार्केट, नाला रोड, पटना सिटी में ढोली सती टेक्सटाइल्स और बोङ्क्षरग कैनाल रोड में टीबीजेड नाम से आभूषण का शोरूम भी है। इस परिवार का बड़ा राजनीतिक रसूख है। लिहाजा, घटना की सूचना मिलते ही अशोक सर्राफ के आवास पर जदयू के विधान पार्षद संजय सिंह, लोजपा के पूर्व सांसद सूरजभान सिंह सहित राजधानी के बड़े व्यवसायी पहुंचे।

10 दिन पहले ही खेतान मार्केट में बनाया था मॉल
लगभग दस दिन पूर्व निशांत सर्राफ ने पीरबहोर थाना क्षेत्र के खेतान मार्केट की पांचवीं मंजिल पर एक मॉल बनाया था। इसके उद्घाटन के लिए अभिनेत्री अमीषा पटेल को बुलाया गया था। घटना के संबंध में जोनल आइजी सुनील कुमार ने कहा कि प्रथमदृष्टया मामला आत्महत्या का नजर आ रहा है। पुलिस अन्य बिंदुओं पर भी जांच कर रही है। घटना के  समय कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। परिवार वालों को इसकी जानकारी तब हुई, जब मास्टर चाबी से कमरे का दरवाजा खोला गया। अंदर का दृश्य देख सबकी आंखें फटी रह गईं। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई और पुलिस ने मौके पर पहुंचकर आवश्यक कार्रवाई की।  

रात में खाना खाकर सोए थे सब
बताया जाता है कि बीती रात परिवार के सभी लोग खाना खाकर सो गए। सुबह जब काफी देर तक कोई नहीं उठा, तो पड़ोस के लोगों को शक हुआ। मास्‍टर चाबी से रूम खोलने के बाद अंदर में निशांत की नाक और मुंह से खून निकल रहा था। पत्नी और बेटी के शव भी खून से लथपथ थे। वहीं चार साल का छोटा बेटा इशांत तड़प रहा था। इशांत को तुरंत इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसकी स्थिति गंभीर बताई जा रही है।



सुबह आठ बजे पूरे परिवार ने साथ में किया था नाश्ता
व्यवसायी निशांत के यहां दूध देने वाले राजू राय की मानें तो घटना पेचीदा हो जाती है। राजू के मुताबिक, जब वह सुबह घर पर दूध देने गया था तो निशांत, उनकी पत्नी और दोनों बच्चे डायनिंग टेबल पर बैठकर नाश्ता कर रहे थे। सभी खुश दिखाई पड़ रहे थे। करीब 20 साल से व्यवसायी के साथ काम कर रहे गार्ड रामेश्वर के अनुसार घटना सुबह करीब नौ बजे की है। उसके मुताबिक निशांत के बड़े भाई विक्की को पत्नी ने आवाज लगाई थी। उसने कहा था कि जल्दी ऊपर आ जाओ, लगता है गैस सिलेंडर फट गया है। जब विक्की तीसरी मंजिल पर पहुंचा तो माजरा कुछ और था। पुलिस का कहना है कि इससे ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि निशांत की मंशा के बारे में परिजनों को भी पता नहीं था।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Akshay Pandey