राज्य ब्यूरो, पटना। बिहार विधान मंडल के मानसून सत्र का शुक्रवार को आखिरी दिन था। इस दौरान बिहार विधानसभा में इतिहास रचा गया। सदन में पूछे जाने वाले सभी सवालों के जवाब आए। ऐसा पहली बार हुआ है कि सदस्यों के सारे सवालों का जवाब आनलाइन दे दिया गया। यह जानकारी स्पीकर विजय कुमार सिन्हा ने सदन को शुक्रवार को दी। 

विधानसभा की पहली पाली की कार्यवाही शुरू होते ही स्पीकर ने सदस्यों को बताया कि विधानसभा के लिए आज ऐतिहासिक दिन है। सरकार ने जनता के प्रति जवाबदेही और संवेदनशीलता का परिचय देते हुए सारे सवालों का जवाब दिलवाया है। स्पीकर ने बताया कि मानसून सत्र के अंतिम दिन शुक्रवार को ऊर्जा, पर्यटन, स्वास्थ्य, विधि. योजना एवं विकास जैसे विभागों के सवाल लिए गए हैं। विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि यह बताते हुए खुशी हो रही है कि सरकार ने सौ फीसद सवालों के जवाब पहले ही दे दिए हैं। 

विधान परिषद में 160 प्रश्न स्वीकृत, 75 के जवाब आए

विधान परिषद की कार्यवाही शुक्रवार को अनिश्चितकाल तक के लिए स्थगित कर दी गई। 26 से 30 जुलाई के बीच विधान परिषद के 198वें सत्र में कुल 183 प्रश्न सदस्यों द्वारा लाए गए, जिनमें 160 प्रश्न स्वीकृत किए गए। 75 प्रश्नों का उत्तर हुआ। सत्र के अंतिम दिन शुक्रवार को सदस्यों के बीच समापन भाषण में कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह ने यह जानकारी दी। उस समय सदन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी उपस्थित थे। 

शून्यकाल के दौरान 39 सूचनाएं मिलीं

सभापति ने बताया कि सत्र के दौरान कुल 38 ध्यानाकर्षण सूचनाएं मिलीं, जिसमें 20 सदन में लाई गईं। सूचनाओं पर सरकार का पक्ष मिला। शून्यकाल के दौरान 39 सूचनाएं मिलीं, जिनमें 38 सूचनाओं के माध्यम से सरकार का ध्यान आकृष्ट किया गया। एक सूचना अस्वीकृत कर दी गई। सदन में 44 निवेदन प्राप्त हुए। निवेदन की सभी सूचनाएं स्वीकृत हुईं, जिन्हें निवेदन समिति को सौंप दिया गया। उन्होंने बताया कि कहा कि सत्र में नेशनल ई-विधान (नेवा) के माध्यम से कुल 47 तारांकित और 11 अल्पसूचित प्रश्नों के उत्तर प्राप्त हुए। 

Edited By: Akshay Pandey