पटना [जेएनएन]। जदयू की पूर्व विधायक और इंटर टॉपर्स स्कैम की मास्टर माइंड ऊषा सिन्हा की जमानत पर राज्य सरकार के दो मंत्रियों की अलग-अलग राय देखने को मिली है। जहां बिहार के शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने ऊषा सिन्हा की जमानत पर कड़ा रूख दिखाते हुए कहा कि इस मामले में किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा।

वहीं राज्य के विधि मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने कहा है कि ऊषा सिन्हा की जमानत न्यायिक प्रक्रिया है, कोर्ट ने उन्हें जमानत दिया है। उनकी जमानत पर सरकार न्यायसंगत फैसला करेगी।

शिक्षामंत्री ने कहा कि इस घोटाले से पूरे देश-विदेश में बिहार की छवि खराब हुई है और एेसे लोगों को किसी भी तरह की रियायत नहीं दी जाएगी।

अशोक चौधरी ने कहा कि घोटाले की मास्टर माइंड ऊषा सिन्हा को जमानत दिए जाने के खिलाफ बिहार सरकार अब उपरि अदालत का दरवाजा खटखटाएगी। इसकी पूरी तैयारी कर ली गई है और जल्द ही इस मामले में सरकार की ओर से इस जमानत के खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा।

पढ़ें - शिक्षामंत्री अशोक चौधरी ने स्मृति ईरानी से की मुलाकात, मांगे 1028 करोड़ रुपये

चौधरी ने कहा कि इन लोगों ने मिलकर बिहार की छवि खराब की है। बिहार की प्रतिभा और प्रतिभावान छात्रों के भविष्य पर कलंक लगाने का काम किया है इसीलिए इन लोगों को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होने कहा कि घोटाले में अन्य लोगों की संलिप्तता के लिए तो उन्हें सजा मिलेगी ही लेकिन ऊषा सिन्हा और लालकेश्वर प्रसाद सहित कुछ लोगों ने तो राज्य को पूरे देश में बदनाम किया है।

पढ़ें - OMG ! ये हाथों में सांप लपेटे क्या कर रहे हैं बिहार के शिक्षामंत्री ?

शिक्षामंत्री के इस रूख को देखते हुए लगता है कि अब इस मामले में सरकार किसी को भी बख्शने के मूड में नहीं है। जिस तरह से ऊषा सिन्हा को गुपचुप तरीके से जमानत दे दी गई और इसकी खबर किसी को नहीं हुई , इस मामले में अब बात दूर तक जाएगी और अब इस मामले में किसी के भी बचने की संभावना नजर नहीं आ रही है।

Posted By: Kajal Kumari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस