थरथरी (नालंदा), संवाद सूत्र। बिहार में सरकारी स्‍कूल के एक नियोजित शिक्षक के बैंक लाकर ने सरकारी एजेंसियों को हैरान कर दिया है। नालंदा जिले के थरथरी प्रखंड के भतहर मध्‍य विद्यालय के शिक्षक नीरज कुमार शर्मा के लाकर से काफी मात्रा में सोना तो मिला ही, उनके पास और भी बेतहाशा संपत्ति मिली है। दरअसल, आयकर विभाग ने अमहरा कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के ठिकाने से मिली बेनामी संपत्ति के सबूत के आधार पर शिक्षक के लाकर से भारी मात्रा में सोना जब्त किया है। आयकर सूत्रों के अनुसार कंपनी के निदेशक राकेश सिंह के ठिकाने पर पटना के बहादुरपुर एसबीआइ शाखा के लाकर की जानकारी मिली थी।

शिक्षक बोले- ये सब तो मेरे रिश्‍तेदार का है

वहीं शिक्षक नीरज कुमार ने कहा है कि रुपये और सोना उनके रिश्तेदार के हैं। लाकर में जमा सोना वास्तविक हकदार को ट्रांसफर करने के पहले छापेमारी हो गई। इस मामले में वे निर्दोष हैं। बताया गया कि वे पटना के साकेतपुरी मोहल्ले में रहते हैं। वर्ष 2013 में शिक्षक के पद पर बहाल हुए थे। शिक्षक पद पर बहाली के पूर्व वे अमहारा कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के अवैतनिक निदेशक थे। इस कंट्रक्शन कंपनी के मालिक उनके मौसेरे भाई राकेश सिंह है।  

  • अमहरा कंस्ट्रक्शन की संपत्ति की तलाश में शिक्षक के लाकर से सोना जब्त
  • लाकर में बंद रुपये व सोना ट्रांसफर के पहले आयकर की छापेमारी
  • कंपनी के अवैतनिक निदेशक थे नालंदा के भतहर मध्य विद्यालय के शिक्षक नीरज कुमार शर्मा

सूत्रों ने बताया कि नीरज के मौसा एक नवरत्न कंस्ट्रक्शन में हैं। अमहरा कंस्ट्रक्शन के मालिक राकेश ङ्क्षसह के ससुर रावत आनंद के साथ उनका संयुक्त बैंक खाता और लाकर था। आयकर विभाग ने नीरज शर्मा के परिवार से पूछताछ की है। आयकर विभाग ने एक माह के भीतर लाकर से जब्त किए गए सोने के संबंध में कागजात उपलब्ध कराने की मोहलत दी है।