पटना, जेएनएन/ एएनआइ। RJD Gopalganj March: गोपालगंज में तिहरे हत्याकांड को लेकर बिहार में सरकार व राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) में तकरार का माहौल दिख रहा है। जनता दल यूनाइटेड (JDU) के विधायक अमरेंद्र पांडेय (Amrendra Pandey) उर्फ पप्पू पांडेय (Pappu Pandey) की गिरफ्तारी की मांग को लेकर बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष व आरजेडी नेता तेजस्वी यादव शुक्रवार की सुबह पार्टी विधायकों एवं विधान पार्षदों को लेकर गोपालगंज के लिए निकले तो प्रशासन ने उन्‍हें रोक दिया। काफिले में तेजस्‍वी के साथ राबड़ी देवी व तेज प्रताप यादव भी थे। इसके बाद तेजस्‍वी विधानसभा अध्‍यक्ष से मिलने आरजेडी के प्रतिनिधिमंडल के साथ गए। उन्‍होंने अध्‍यक्ष से विधानसभा का विशेष सत्र को बुलाने की मांग की।

तेजस्‍वी यादव ने चार सदस्‍यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ विधानसभा अध्‍यक्ष से मिलकर विधानसभा के विशेष सत्र की मांग रखी। प्रतिनिधिमंडल में तेजस्‍वी यादव के साथ तेज प्रताप यादव, जगदानंद सिंह व आलोक मेहता शामिल रहे। उन्‍होंने इसके पहले राबड़ी आवास के सामने करीब दो घंटे के हाई वोल्‍टेज ड्रामा के दौरान अनेक लोग बगैर मास्‍क के दिखे। फिजिकल डिस्‍टेंसिंग की भी अवहेलना होती दिखी।

गोपालगंज जाने का दिया था अल्‍टीमेटम

विदित हो कि जेडीयू विधायक अमरेंद्र कुमार पांडेय उर्फ पप्पू पांडेय उर्फ काली पांडेय पर आरजेडी नेता जेपी यादव के माता-पिता व भाई की हत्‍या को ले एफआइआर दर्ज की गई है। घटना में घायल आरजेडी नेता की हालत भी गंभीर है। तेजस्‍वी यादव ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) पर जेडीयू विधायक को बचाने का आरोप लगाते हुए गुरुवार तक आरोपित की गिरफ्तारी नहीं होने पर शुक्रवार की सुबह पटना से गोपालगंज मार्च (Patna-Gopalganj March) का अल्‍टीमेटम दिया था।

गाडि़यों से निकले तेजस्‍वी, साथ में राबड़ी व तेज प्रताप

अपने अल्‍टीमेटम के तहत शुक्रवार को तेजस्‍वी यादव आरजेडी विधायकाें के साथ गोपालगंज प्रस्‍थान करने निकले। तेजस्‍वी यादव की कार में प्रदेश आरजेडी अध्‍यक्ष जगदानंद सिंह थे। उधर राबड़ी देवी व तेज प्रताप यादव दूसरी गाड़ी से निकले। राबड़ी आवास के बाहर काफिले को पुलिस ने घेर लिया। पुलिस व प्रशासन द्वारा उन्‍हें रोकने व मनाने की जा रही थी। मान-मनौव्‍वल का दौर जारी रहा।

विधानसभा अध्‍यक्ष से मिले, विशेष सत्र बुलाने की रखी मांग

इस बीच तेजस्‍वी यादव ने कहा कि अगर उन्‍हें गाेपालगंज जाने की अनुमति नहीं है तो वे विधानसभा तो जा सकते हैं। वे राज्‍य की बदहाल स्थिति को देखते हुए विधानसभा का विशेष सत्र बुलाना चाहते हैं। नेता प्रतिपक्ष के आग्रह पर विधानसभा अध्‍यक्ष ने उन्‍हें चार सदस्‍यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ मिलने के लिए बुलाया। तेजस्‍वी के साथ प्रतिनिधिमंडल में तेज प्रताप यादव, जगदानंद सिंह तथा आलोक मेहता विधानसभा अध्‍यक्ष से मिले।

तेजस्‍वी ने गिनाए विशेष सत्र की मांग के कारण

विधानसभा अध्‍यक्ष से मुलाकात के बाद तेजस्‍वी ने बताया कि उन्‍होंने विधानसभा के विशेष सत्र को बुलाने की मांग रखी। जब विधानसभा अध्‍यक्ष सर्वदलीय बैठक बुला सकते हैं तो विधानसभा का विशेष सत्र भी बुला सकते हैं। बढ़ते अपराध व प्रवासी श्रमिकों की समस्‍याओं के मुद्दों पर सरकार को घेरते हुए तेजस्‍वी ने कहा कि विधानसभा के विशेष सत्र में इनपर चर्चा जरूरी है।

तेजस्‍वी ने कहा कि बिहार में अपराध बढ़े हैं। हत्‍या, लूट, अपहरण व दुष्‍कर्म आदि की घटनाएं बढ़ गईं हैं। लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों को लाने व उन्‍हें क्‍वारंटाइन सेंटर में रखने में बदइंतजामी हो रही है। उन्‍हें दूसरे दर्जे का नागरिक बना दिया गया है। कोरोना संकट के काल में स्‍वास्‍थ्‍य विभाग भी चरमरा गया है। इन मुद्दों पर विधानसभा के विशेष सत्र में चर्चा जरूरी है।

विशेष राबड़ी का सवाल: क्‍या गुंडों के लिए नहीं लॉकडाउन?

इसके पहले अपने आवास के बाहर बिहार विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष राबड़ी देवी ने कहा कि बिहार में जो भी सरकार के खिलाफ आवाज उठाता है, उसे गिरफ्तार कर लिया जाता है। गोपालगंज में चार-चार हत्‍याएं हुई हैं और हम छोड़ दें? अब या तो हमें गिरफ्तार किया जाए या गोपालगंज जाने दिया जाए। राबड़ी ने कहा कि गोपालगंज में उनका घर व ससुराल है। वहां हत्‍याएं हुई हैं। ऐसे में वे वहो क्‍यों नहीं जाएं? राबड़ी ने सवाल उठाया कि लॉकडाउन केवल उनके लिए ही है, गुंडों के लिए नहीं है?

सिटी एसपी बोले- मार्च की अनुमति नहीं, हाेगी कार्रवाई

राबड़ी आवास के बाहर गोपालगंज मार्च के लिए एकत्र आरजेडी नेताओं को रोकेने के दौरान वहां मौजूद पटना के सिटी एसपी विनय कुमार ने कहा कि प्रशासन ने तेजस्‍वी यादव की यात्रा को अनुमति नहीं दी है, इसलिए उन्‍हें रोका गया। आगे विधिसम्‍मत कार्रवाई की जाएगी।

हत्‍याकांड को ले समझौते के मूड में नहीं आरजेडी

उधर, हत्‍याकांड को लेकर आरजेडी किसी समझौते के मूड में नहीं दिख रहा। तेजस्‍वी यादव भी सरकार से आर-पार की घोषणा कर चुके हैं। उनके अल्‍टीमेटम के अनुसार आरोपित जेडीयू विधायक की गिरफ्तारी भी नहीं हो सकी है। ऐसे में सवाल यह है कि विधानसभा अध्‍यक्ष अगर विशेष सत्र बुलाने की मांग नहीं मानते हैं तो तेजस्‍वी आगे क्‍या करेंगे? क्‍या वे अपनी घोषणा के अनुसार पटना से गोपालगंज कूच करेंगे? अगर वे कूच करते हैं तो पुलिस-प्रशासन क्‍या कार्रवाई करेगा? संभव है कि लाकडाउन के उल्‍लंघन के आरोप में उन्‍हें गिरफ्तार कर लिया जाए।

सीबीआइ जांच कराए सरकार, बिहार पुलिस पर भरोसा नहीं

तेजस्वी पहले कह चुके हैं कि वे गोपालगंज में मारपीट करने नहीं जा रहे थे। वे केवल आरजेडी नेता के परिजनों की हत्या की ही नहीं, बल्कि शंभू मिश्रा और मुन्ना तिवारी की हत्या का भी विरोध कर रहे हैं। सरकार अगर तकरार रोकना चाहती है तो सभी मामलों की सीबीआइ जांच कराए, क्‍योंकि उन्‍हें बिहार पुलिस पर भरोसा नहीं है।

क्‍या है तिहरा हत्‍याकांड, जानिए...

- रविवार को गोपालगंज के हथुआ थाना क्षेत्र के रुपनचक गांव में आरजेडी नेता जेपी यादव अपने घर में स्‍वजनों के साथ थे। इसी बीच बाइक सवार अपराधियों ने पूरे परिवार पर अंधाधुंध गोलीबारी (Indiscriminate Firing) कर आरजेडी नेता के माता-पिता (Parents) की हत्‍या कर दी।

- बुरी तरह घायल आरजेडी नेता व उनके भाई (Brother) अस्‍पताल ले जाए गए, जहां भाई की भी मौत (Death) हो गई। आरजेडी नेता का इलाज पटना मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल (PMCH) में जारी है।

- घायल आरजेडी नेता ने घटना में जेडीयू विधायक अमरेंद्र कुमार पांडेय (Amrendra Kumar Pandey) तथा मुकेश पांडेय (Mukesh Pandey) व सतीश पांडेय (Satish Pandey) की संलिप्‍तता बतायी। उनके खिलाफ नामजद एफआइआर दर्ज की गई है, लेकिन जेडीयू विधायक को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

- घटना के दो दिनों बाद मंगलवार को बाइक पर सवार तीन अपराधियों ने जेडीयू विधायक अमरेंद्र कुमार पांडेय के एक रिश्‍तेदार मुन्ना तिवारी (Munna Tiwary) की भी हत्‍या कर दी।

- तिहरे हत्‍याकांड में आरोपित विधायक के रिश्तेदार की हत्या को गैंगवार (Gang War) का परिणाम माना जा रहा है। हालांकि, फिलहाल निश्चित तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता।

- तेजस्‍वी यादव ने पीएमसीएच जाकर घायल आरजेडी नेता से मुलाकात की। उन्‍होंने कहा कि आरजेडी नेताओं पर हमला बर्दाश्त से बाहर है।

- तेजस्वी ने सरकार को गुरुवार तक की मोहलत देते हुए कहा कि अगर इस बीच आरोपित जेडीयू विधायक की गिरफ्तारी नहीं हुई तो वे पटना से गोपालगंज तक मार्च करेंगे।

- लॉकडाउन के दौरान आरजेडी विधायकों के मार्च को पुलिस-प्रशासन ने रोक दिया। इसके बाद उन्‍होंने विधानसभा अध्‍यक्ष से मिलकर विशेष सत्र बुलाने की मांग रखी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस