जागरण संवाददाता, पटना। पहली अप्रैल के बाद कोरोना संक्रमित रेल कर्मचारियों को अब 30 दिनों का विशेष आकस्मिक अवकाश मिलेगा। इस संबंध में पूर्व मध्य रेल के मुख्य कार्मिक अधिकारी ने आदेश जारी कर दिया है। संक्रमण की दूसरी लहर में बड़ी संख्या में रेलकर्मी प्रभावित हैं। कई रेल कर्मचारियों की  मृत्यु हो चुकी है। कोरोना जांच में संक्रमित पाए जाने पर उन्हें क्वारंटाइन अवधि की छुट्टी नहीं दी जा रही है। छुट्टी नहीं होने के कारण वेतन भी नहीं मिल रहा है। महाप्रबंधक ललित चन्द्र त्रिवेदी के निर्देश पर मुख्य कार्मिक अधिकारी सुरेश चंद्र श्रीवास्तव ने गुरुवार को आदेश जारी कर दिया है। 

बड़ी संख्या में रेल कर्मचारियों की हो चुकी है मौत

मुख्य कार्मिक अधिकारी सुरेश चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि बहुत से रेलकर्मचारी कोरोना की चपेट में आकर अपनी जान गंवा चुके हैं। कार्यरत स्टॉफ के कोरोना जांच में पॉजिटिव पाए जाने पर उन्हें अपनी छुट्टी पर क्वारंटाइन होना पड़ रहा है। बहुत से कर्मचारियों को उनके खाते में छुट्टी नहीं होने के कारण वेतन भी नहीं मिल पा रहा है। ऐसी स्थिति में ईसीआरकेयू ने रेलप्रशासन के समक्ष पुनः यह मांग रखी कि पूर्व निर्धारित रेल नियमों के अधीन इस वर्ष कोरोना संक्रमित रेलकर्मचारियों को क्वारंटाइन अवधि के लिए विशेष आकस्मिक अवकाश स्वीकृत किया जाए। इससे रेलकर्मचारियों को बड़ी राहत मिली है। उक्त जानकारी देते हुए ईसीआरकेयू के मीडिया प्रभारी एके शर्मा ने बताया कि ईसीआरकेयू ने रेलप्रशासन के समक्ष रेलकर्मचारियों के कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए अन्य संसाधनों और इलाज की सुविधाओं को भी जल्द उपलब्ध कराने की मांग रखी है, जिसपर रेलप्रशासन गंभीरता पूर्वक विचार कर रहा है।