पटना, जागरण संवाददाता। पटना की बाकरगंज सराफा मंडी में हुई बड़ी लूट का पर्दाफाश करने का दावा कर पुलिस ने भले अपनी पीठ ठोंक ली है, लेकिन पटना के सराफा दुकानदार इससे बिल्‍कुल खुश नहीं हैं। उनका साफ कहना है कि अगर पुलिस ने मामले को मुकाम तक पहुंचा दिया है, तो लूटा गया सोना आखिर कहां गया। बाकरगंज सराफा मंडी में बीते दिनों एस एस ज्वेलर्स में दिनदहाड़े हुई भीषण डकैती मामले को लेकर पाटलिपुत्र सराफा संघ अपना आंदोलन तेज करेगा। इसका निर्णय गणतंत्र दिवस पर हुई संघ की कार्यकारिणी की बैठक में सर्वसम्मति से लिया गया। 

पाटलिपुत्र सराफा संघ के अध्यक्ष विनोद कुमार ने कहा कि कार्यकारणी के सदस्यों ने लूटे गये आभूषणों और पुलिस की ओर से बरामद किये गये आभूषणों की समीक्षा की। संघ पीड़ित दुकानदार संजीव कुमार से एसएसपी के निर्देशानुसार मांगे गए स्टाक डिटेल  की समीक्षा  के बाद आंदोलन की  रणनीति तय करेगा।  उन्होंने कहा कि स्टॉक डिटेल और बरामदगी में काफी अंतर देखने को मिल रहा है। इसे देखते हुए तीव्र  आंदोलन की रणनीति की रूप रेखा तैयार करने पर सहमति बनी है।  साथ ही सभी आभूषणों के स्टाक के सभी कागजात के साथ आवश्यकतानुसार संवाददाता सम्मेलन कर मीडिया के समक्ष रखने का भी प्रस्ताव कार्यकारिणी में  पारित किया। 

उन्होंने कहा कि बाकरगंज में एस एस ज्वेलर्स सहित बिहार के अन्य जिलों में सराफा व्यवसायियों के साथ  हुईं आपराधिक वारदातों पर विमर्श करने के लिए  सभी  जिला व अनुमंडल के अध्यक्षों  और सचिव के साथ एक राज्य स्तरीय बैठक पटना स्थित पाटलिपुत्र सर्राफा संघ के कार्यालय में कराने का निर्णय भी लिया गया। उन्होंने कहा कि राज्य भर के सराफा व्यवसायी अपराधियों के निशाने पर हैं। आए दिन उनके साथ आपराधिक घटनाए हो रहीं हैं। टैक्स के रूप में सरकार को सर्वाधिक राजस्व देने वाले सराफा व्यवसायी इस उपेक्षा से चिंतित हैं। 

विनोद कुमार ने कहा कि कार्यकारणी सदस्यों ने 25 जनवरी को गोपालगंज में सराफा व्यवसायी से हुई आपराधिक वारदात की निंदा करते हुए अपराधियों को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग की गयी। सरकार  से हमारी मांग है कि कानून व्यवस्था को और अधिक चुस्त- दुरुस्त किया जाए। सराफा व्यवसायियों को सुरक्षा प्रदान की जाए जिससे वे भयमुक्त वातावरण में कारोबार कर सकें।

Edited By: Shubh Narayan Pathak