जागरण टीम, बिहारशरीफ (नालंदा) : करीब आठ महीने जद्दोजहद से गुजरे पर प्यार को मुकाम मिल गया। ये कहानी बिहार की है, जिसका कनेक्शन गुजरात तक जुड़ा। घर से गायब होने पर अपहरण का मामला दर्ज होने के महीनों बाद लड़का और लड़की गुजरात में पुलिस को मिले। कोर्ट में दोनों ने समर्पण कर दिया। उन्होंने कहा कि हम बालिग हैं और साथ रहना चाहते हैं। पुलिस भी मंशा समझ गई। इसके बाद थाने में ही दोनों की शादी हुई। बिन बैंड-बाजे के इस विवाह का के गवाह बहुत से लोग बने।  

दरअसल, शुक्रवार की शाम बिना बैंड बाजे के थाना परिसर में प्रेमी युगल की शादी होता देख लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। मामला शहर के लहेरी थाना का है, जहां जनवरी महीने से फरार प्रेमी युगल को पुलिस ने शुक्रवार को गुजरात से बरामद कर थाने लाई थी। कोर्ट में समर्पण के बाद प्रेमी युगल ने खुद को बालिग बताते हुए एक दूसरे के साथ रहने की बात कही। जिसके उपरांत पुलिस प्रेमी युगल को पुनः थाने लेकर आई। जहां स्वजन की सहमति के बाद थाना परिसर के मुख्य गेट पर बिठाई गई गणेश भगवान की प्रतिमा के आगे दोनों की सहमति के बाद शादी करा दी गई।

पटनाः स्टेशन में मिले नाबालिग युवती एवं युवक

खगौल, पटना। आरपीएफ ने शुक्रवार की देर रात दानापुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर-4 से संदिग्ध अवस्था में बैठे एक नाबालिग युवती एवं युवक को हिरासत में लिया। युवक जलालगढ़ पूर्णिया का रहने वाला है। 17 वर्षीय नाबालिक युवती झारखंड डोमचांस की रहने वाली है। दोनों ने बताया कि वह पिछले एक सितंबर से अपने घर से भागे थे। इसकी लिखित शिकायत डोमचांस थाने में की हुई है। आरपीएफ थाना प्रभारी वेंकटेश कुमार ने बताया कि दोनों को संदिग्ध अवस्था में प्लेटफार्म नंबर-4 से हिरासत में लिए गए। डोमचांस थाने में की गई शिकायत के आधार पर दोनों को झारखंड पुलिस के हवाले कर दिया गया है। 

Edited By: Akshay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट