पटना [जेएनएन]। अब जब इच्छा हो आप पड़ोसी देश नेपाल की राजधानी काठमांडू तक की यात्रा काफी सहूलियत से कर सकते हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री सचिवालय स्थित ‘संवाद’ के सामने भारत नेपाल बस सेवा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। आयोजित कार्यक्रम में सम्मिलित मुख्यमंत्री ने सबसे पहले आधुनिक तकनीक एवं सुविधाओं से सुसज्जित इन बसों का निरीक्षण किया।

बिहार राज्य पथ परिवहन निगम की ये बसें बोधगया से काठमांडू और पटना से जनकपुर आवागमन करेंगी। परिवहन मंत्री संतोष कुमार निराला ने मुख्यमंत्री को हरित गुच्छ जबकि बोधगया टेम्पल मैनेजमेंट कमिटी के सचिव नांग्जे दोरजे एवं चीफ मोंक चालिंदा ने मुख्यमंत्री को अंगवस्त्र भेंटकर उनका अभिनंदन किया। वहीं पाग, अंगवस्त्र एवं मधुबनी पेंटिंग भेंटकर भी मुख्यमंत्री का स्वागत किया गया।

इस अवसर पर बिहार एवं नेपाल के कलाकारों ने मुख्यमंत्री के समक्ष लोक कला का प्रदर्शन किया। परिवहन मंत्री संतोष निराला एवं परिवहन विभाग के सचिव  संजय अग्रवाल ने मुख्यमंत्री को स्मृति चिन्ह (पशुपतिनाथ मंदिर) भेंट की।

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि परिवहन विभाग ने बोधगया से काठमांडू और पटना से जनकपुर के बीच बस सेवा शुरू की गई है। आज से दोनों रूटों पर आठ बसें चलेगी।

पटना-जनकपुर की बसें पटना, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी भिट्ठा मोड़ होते हुए जनकपुर जाएंगी। वहीं बोधगया-काठमांडू की बसें गया, पटना, हाजीपुर, मुजफ्फरपुर, मोतिहारी, रक्सौल, वीरगंज होते काठमांडू जाएंगी।

जानिए क्या होगा किराया....

बोधगया वाया पटना, मुजफ्परपुर, काठमांड़ू के लिए सुबह 10 बजे बोध गया से काठमांडू के लिये बस खुलेगी, फिर 8 बजे शाम में काठमांडू से बोधगया के लिये बस खुलेगी। बोधगया-काठमांडू, काठमांडू-बोधगया बस सेवा का किराया 1250 रूपया है और पटना से काठमांडू, काठमांडू से पटना का किराया 1015 रूपया है। वहीं, पटना से जनकपुर का किराया 275 रूपया है। काठमांडू के लिए फिलहाल 4 और जनकपुर के लिये तीन बसें चलेगी।

विदेश मंत्रालय ने पीपीपी मोड पर बिहार और नेपाल के बीच बस सेवा शुरू करने की अनुमति दे दी थीं। सभी बसों को परमिट मिल गई है। चार बसें पटना और जनकपुर जबकि चार बसें बोधगया और काठमांडू के बीच चलेंगी। एक बस में करीब 44 एसी सीटें होंगी। पटना से सवार होने वाले यात्री 200 किमी. भारत व 200 किमी. नेपाल में यात्रा करेंगे।

 

Posted By: Kajal Kumari