पटना, स्‍टेट ब्‍यूरो। बिहार विधान परिषद के पूर्व सभापति प्रो. अरुण कुमार का बुधवार की देर रात 90 वर्ष की आयु में पटना के पटेल नगर स्थित उनके आवास पर निधन हो गया। वे पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। उनके निधन पर राज्‍यपाल फागू चौहान व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सहित कई नेताओं ने शोक संवेदना व्यक्त किया है।

विधान परिषद के सभापति व कार्यकारी सभापति रहे

प्रो. अरुण कुमार 05 जुलाई 1984 से 03 अक्टूबर 1986 तक बिहार विधान परिषद के सभापति रहे। वे 16 अप्रैल 2006 से 04 अगस्त 2009 तक विधान परिषद के कार्यकारी सभापति भी रहे।

राज्यपाल ने निधन पर शोक जताया

राज्यपाल फागू चौहान ने बिहार विधान परिषद के पूर्व सभापति प्रो. अरुध कुमार के निधन पर शोक संवेदना व्यक्त की है। राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में कहा है कि अरुण कुमार एक लोकप्रिय समाजसेवी, प्रख्यात शिक्षाविद तथा संसदीय मामलों के विशेषज्ञ राजनेता थे। उनके निधन से सामाजिक-राजनीतिक जगत को अपूरणीय क्षति हुई है।

सीएम नीतीश ने व्‍यक्‍त की संवदेना

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रो. अरुण कुमार के बेटे से फोन पर बात कर उन्हें सांत्वना दी। मुख्‍यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति तथा स्‍वजनों को दुख की घड़ी में धैर्य बनाए रखने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रो. अरुण कुमार एक कुशल राजनेता एवं प्रसिद्ध समाजसेवी थे। उनके निधन से राजनीति एवं सामाज को अपूरणीय क्षति हुई है।

इन नेताओं ने भी जताया शोक

जनता दल यूनाइटेड के मुख्य प्रवक्ता व विधान पार्षद संजय सिंह ने विधान परिषद के पूर्व सभापति प्रो. अरुण कुमार सिंह के निधन पर अपनी शोक संवेदना व्यक्त की है। अपने शोक संदेश में उन्होंने कहा कि प्रो. कुमार एक कुशल राजनीतिज्ञ एवं सामाजिक सरोकर के धनी व्यक्ति थे। सदन में वे अभिभावक की भूमिका में रहते थे। उनके निधन से सामाजिक एवं राजनीतिक क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुई है। जेढीयू नेता छोटू सिंह व ओम प्रकाश सिंह सेतु ने भी अपनी शोक संवेदना व्यक्त की है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप