राज्य ब्यूरो, पटना : बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने गया में पार्टी के छठे स्थापना दिवस समारोह में कहा कि जातीय जनगणना होनी चाहिए लेकिन सभी जातियों की, न कि सिर्फ एससी-एसटी की। उन्होंने ट्वीट कर कहा- 'जब देश में सांप, बाघ-बकरी की जनगणना हो सकती है, तो फिर जातियों की क्यों नहीं? देश के विकास के लिए जातीय जनगणना जरूरी है। पता तो लगे कि किसकी कितनी आबादी है और उसे सत्ता में कितनी भागीदारी मिली।

नहीं मानता कोई भी धर्म: जीतन राम मांझी

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने गया में कहा, 'मैं किसी धर्म को नहीं मानता, मानव धर्म को मानता हूं। महात्मा गांधी ने कहा था कर्म ही पूजा है। यह नहीं कि मंदिर में जाकर घंटी बजाएं या मस्जिद में जाकर अल्लाह को याद करें। बाबा साहब आंबेडकर की राहों पर चलना चाहिए।

कामन स्कूलिंग सिस्टम लागू होना चाहिए

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जब वह सीएम थे तो 34 निर्णय लिए गए थे जिसमें कुछ का ही अनुपालन कराया गया है। कामन स्कूलिंग सिस्टम लागू होना चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान में सभी थानों में एक दलित व एक अल्पसंख्यक समुदाय का पदाधिकारी हो जो उनसे जुड़े मामले देखे। बता दें कि शनिवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी जातीय जनगणना की पैरवी की थी। उन्होंने कहा था कि केंद्र सरकार को इसके लिए विचार करना चाहिए।

हम ने जारी किया टोल फ्री नंबर

इधर, पटना में स्थापना दिवस कार्यक्रम में राष्ट्रीय प्रधान महासचिव व राज्य सरकार में मंत्री डॉ. संतोष कुमार सुमन ने पार्टी का टोल फ्री नंबर 8929435395 जारी किया। उन्होंने कहा कि जल्द ही पार्टी का एप लांच किया जाएगा जिसके माध्यम से आम जनों की समस्याओं का समाधान किया जाएगा। इस अवसर पर सत्येंद्र कुमार सिंह व विपिन कुमार को दशरथ मांझी सम्मान दिया गया। 

Edited By: Akshay Pandey