मुजफ्फरपुर [जेएनएन]। जिले में बूढ़ी गंडक का कहर जारी है। कई प्रखंडों में स्थिति विकराल हो गई है।बुधवार को शहरी क्षेत्र के कई इलाके बाढ़ के पानी में डूब गए। नगर निगम के वार्ड नंबर 45, 46 व 47 पूरी तरह से चपेट में हैं। रामबाग चौरी, कोठिया, अमरूद बगान, फैज व सैयद कॉलोनी जलमग्न हो गए हैं। यहां एक से पांच फीट तक पानी है।

वहीं श्रीवास्तव कॉलोनी, शर्दुल्लापुर, चूना भट्ठी व कंचन नगर में बाढ़ का पानी प्रवेश कर गया है। इससे 70 हजार से अधिक की आबादी प्रभावित है। शास्त्री नगर और बावन बीघा में तेजी से पानी प्रवेश करने लगा है। जेल चौक तक पानी पहुंच गया है। इसको लेकर जेल प्रशासन अलर्ट है।

बीएमपी छह के पास पुलिया के बगल में तेज कटाव हो रहा है। इसे रोकने में नगर निगम प्रशासन जुट गया है। वहां जेसीबी व मजदूरों से मिट्टी की बोरी डाली जा रही है। बेला इंडस्ट्रीयल एरिया के पीछे तक पानी पहुंच गया है। धीरनपट्टी गांव मेंपानी प्रवेश करने से लोगों में दहशत है। लोग पलायन करने लगे हैं। 

 

उधर, मीनापुर प्रखंड में बाढ़ की स्थिति विकराल हो गई है। सभी 28 पंचायतों में पानी प्रवेश कर गया है। मुशहरी के गंगापुर में सेल्फी लेने के क्रम में मुरौल प्रखंड के खरौना निवासी बीसीए के छात्र देवेश कुमार की मौत डूबने से हो गई। मोतीपुर में एक फीट तक बूढ़ी गंडक का जलस्तर कम हुआ है। 

 

 

मुशहरी प्रखंड कार्यालय परिसर का हाल-बेहाल

प्रखंड में बाढ़ की स्थिति विकराल होती जा रही है। मुशहरी प्रखंड कार्यालय परिसर में आधा फीट पानी भर गया है। वहीं नरौली, इंडा, सहला, जलालपुर, द्वारिकानगर व बैंकठपुर में तेजी से पानी प्रवेश कर रहा है। ढोली-पूरा रोड पर नरौली में एक किमी में करीब डेढ़ फीट पानी तेज गति से बह रहा है।

 

 

बिंदा में पांच फीट और बैकठपुर-सलहा मार्ग पर 50 फीट में तीन फीट पानी है। इसके अलावा ब्लॉक कार्यालय के सामने सहित चार-पांच जगहों पर पानी सड़क को छूने लगा है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए डीएम ने मुजफ्फरपुर-पूसा मार्ग पर बड़े वाहनों के परिचालन पर रोक लगाने का आदेश दिया है। वहीं प्रखंड कार्यालय के अभिलेखागार स्थित कैंप में बाढ़ पीडि़तों ने एक ट्रक राहत सामग्री लूट ली।   

 

कई जगहों पर स्लूस गेट से रिसाव 

बंदरा प्रखंड के सैदपुर-पूसा मुख्य सड़क बागमती के बाढ़ के पानी के तेज बहाव से टूट गई। इससे पटसारा, सखौड़ा, तीनमुहानी, केवटसा, गोविंदपुरा व छपरा गांव में पानी फैल गया है। वहीं बडग़ांव, सिमरा, हरपुर, पीरापुर, पीयर, रामपुर दयाल, रतवारा, महेशपुर में स्लूस गेट से तेजी से रिसाव हो रहा है।

 

जबकि गायघाट प्रखंड के बखरी तटबंध पर बूढ़ी गंडक के पानी का दबाव बढ़ रहा है। यहां भी तीन जगहों पर स्लूस गेट से रिसाव हो रहा है। 

 

बूढ़ी गंडक के जलस्तर में लगातार वृद्धि 

बूढ़ी गंडक के जलस्तर में बुधवार की सुबह से लेकर शाम छह बजे तक सिकंदरपुर में पांच सेंटीमीटर की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वहीं वाल्मीकिनगर बराज में एक लाख 24 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। मंगलवार की रात जलस्तर 53.69 मीटर था, जो बुधवार की शाम छह बजे बढ़कर 53.73 मीटर तक चला गया। 

समय               जलस्तर 

सुबह 6 बजे        53.69 मीटर

सुबह 8 बजे        53.70 मीटर

सुबह 10 बजे      53.71 मीटर

दोपहर 12 बजे     53.71 मीटर

दोपहर दो बजे      53.72 मीटर

 शाम 4 बजे       53.72 मीटर

 शाम 6 बजे      53. 73 मीटर 

 

शहरी क्षेत्र की 70 हजार आबादी प्रभावित

-आधा दर्जन से अधिक इलाके पानी में डूबे, जनजीवन अस्त-व्यस्त

-रामबाग चौरी, कोठिया, अमरूद बगान, फैज व सैयद कॉलोनी जलमग्न 

-शास्त्री नगर व बावन बीघा में तेजी से घुस रहा पानी 

-जेल चौक तक पहुंचा बाढ़ का पानी, जेल प्रशासन अलर्ट 

-बीएमपी छह के पास पुलिया के बगल में हो रहा तेज कटाव

-कटाव को रोकने में जुटा नगर निगम प्रशासन 

-बेला इंडस्ट्रीयल एरिया के पीछे तक पहुंचा पानी 

-धीरनपट्टी गांव मेंघुसा बाढ़ का पानी, लोगों में दहशत 

-बीते 24 घंटे में बूढ़ी गंडक के जलस्तर में पांच सेमी की वृद्धि

-मुशहरी प्रखंड में बाढ़ विकराल, आधा दर्जन नए इलाकों में घुसा पानी 

-आधा दर्जन सड़कों पर एक-पांच फीट तक बहाव

-मुजफ्फरपुर-पूसा मार्ग पर बड़े वाहनों के परिचालन पर रोक 

-प्रखंड कार्यालय के अभिलेखागार स्थित कैंप में बाढ़ पीडि़तों ने एक ट्रक राहत सामग्री लूटी 

-गंगापुर में बाढ़ के पानी में डूबने से बीसीए के छात्र की मौत 

-मीनापुर प्रखंड के 28 पंचायतों में घुसा बाढ़ का पानी 

-गायघाट प्रखंड के बखरी तटबंध पर दबाव, तीन जगहों पर स्लूस गेट से रिसाव 

-बंदरा प्रखंड में चार स्लूस गेट से रिसाव, सैदपुर-पूसा के बीच सड़क टूटी 

-मोतीपुर में एक फीट तक घटा बूढ़ी गंडक का जलस्तर   

 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप