सुपौल/ मधुबनी [जागरण टीम]। विश्व कबीर विचार मंच के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष मनमोहन साहेब के दो बहनों से दुष्कर्म के आरोप में जेल जाने के बाद केस दर्ज कराने वाली पीडि़ता और उसके पिता में जुबानी लड़ाई छिड़ गई है। गुरुवार को लड़की के पिता ने फोन पर कहा कि मनमोहन बाबा पर लगाए गए आरोप गलत हैं। दूसरी ओर केस दर्जकरने वाली लड़की अपनी बात पर कायम है।
विदित हो कि मंगलवार को मधुबनी के फुलपरास स्थित विश्व कबीर विचार मंच के आश्रम से बाबा मनमोहन दास को सुपौल की पुलिस ने सगी बहनों से दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार किया। सुपौल महिला थाने में दर्ज केस के अनुसार बाबा मनमोहन ने छोटी बहन से नाबालिग रहते हुए वर्ष 2010 में दुष्कर्म किया था। उसने फरवरी 2016 में  उसकी बड़ी बहन से भी दुष्कर्म कर वीडियो बनाया तथा उसे वायरल करने की धमकी दे ब्‍लैकमेल कर लगातार दुष्कर्म करता रहा। बड़ी बहन ने इसकी शिकायत थाने में दर्ज कराई।
लड़की के पिता ने कही ये बात
सुपौल महिला थाने में केस दर्ज होने के बाद हरकत में आई पुलिस ने आरोपित बाबा मनमोहन दास को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद अब आरोप लगाने वाली लड़की के पिता ने कहा है कि उनकी बेटी को बरगलाकर बाबा मनमोहन दास पर दुष्‍कर्म का केस करवाया गया है। 24 जनवरी के बाद बेटी से उनका संपर्क नहीं है। उन्होंने लुधियाना में उसके लापता होने का केस दर्ज कराया है।
लड़की के पिता तीन दशक से लुधियाना में रहते हैं। दो बेटियां और एक बेटा है। वे कबीरपंथी हैं। घर पर साप्ताहिक सत्संग भी होता है। उन्‍होंने आरोप लगाया कि बीते नवंबर में दो कबीरपंथी रामदास और राजीव उनके घर गए थे। दोनों ने बड़ी बेटी से मिलकर साजिश रची है।
बयान पर कायम लड़की
हालांकि, लड़की अपने बयान पर कायम है। उसने गुरुवार को सुपौल न्यायालय में दंड प्रकिया संहिता की धारा 164 के तहत अपना बयान दर्ज कराया। लड़की ने साफ कहा कि उसने दुष्कर्म के बारे में परिवार को जानकारी दी थी। कोई कदम नहीं उठाया गया, तो उसने खुद मुंह खोला।
पुलिस संरक्षा में है लड़की
अनुसंधानकर्ता महिला थानाध्यक्ष प्रेमलता भूपाश्री ने बताया कि पीडि़ता पुलिस संरक्षा में है। पिता से उसकी बात मोबाइल फोन पर हो गई है। लुधियाना से उसके पिता सुपौल के लिए चल चुके हैं।
बकौल थानाध्यक्ष, पीडि़ता ने बताया कि उसने सारी बातों की जानकारी पहले अपने माता-पिता को ही दी थी। अभिभावकों द्वारा कोई कदम नहीं उठाने पर उसने बिहार आकर मामले का पर्दाफाश करने का निर्णय लिया। इसी कारण उसने केस दर्ज कराया। इससे पूर्व उसने 22 जनवरी को बिहार के मुख्यमंत्री, डीजीपी व गृह सचिव को ईमेल भी किया था। उसने स्पीड पोस्ट से भी अपनी शिकायत भेजी थी।
पीडि़ता ने अपने और परिवार के पर खतरे की आशंका जताई है। इस बाबत एसपी ने सुरक्षा का आश्‍वासन देते हुए कहा कि पुलिस जल्द ही अनुसंधान कर चार्जशीट दायर करेगी।

इस मामले में गिरफ्तार हुआ बाबा
मंगलवार को मधुबनी के फुलपरास स्थित विश्व कबीर विचार मंच के आश्रम से सगी बहनों से दुष्कर्म के आरोप में बाबा मनमोहन दास को सुपौल जिले की पुलिस ने गिरफ्तार किया था। सुपौल महिला थाने में दर्ज केस के अनुसार बाबा मनमोहन ने छोटी बहन से नाबालिग रहते हुए वर्ष 2010 में दुष्कर्म किया था। फरवरी 2016 में सुपौल जिले के मरौना थाना क्षेत्र के पचभिंडा स्थित अपने गांव के कबीर आश्रम में मनमोहन दास ने सत्संग और प्रवचन का एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया था। इसमें पीडि़त बहनों का पूरा परिवार भी पहुंचा।
कार्यक्रम के दूसरे दिन रात में सेवा के बहाने उसने बड़ी बहन से दुष्कर्म किया। वीडियो बनाया। किसी को इसकी जानकारी देने पर वीडियो वायरल करने, उसे और उसके भाई की हत्या करने की धमकी दी। धमकी देकर दोनों का लगातार दुष्कर्म करता रहा। बड़ी बहन ने इसकी शिकायत दर्ज कराई थी।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस