पटना, राज्य ब्यूरो। Electricity Crisis in Bihar: बिहार में बिजली की आपूर्ति में सुधार तो जरूर हो रहा पर आपूर्ति की रफ्तार अपेक्षाकृत धीमी है। मंगलवार को रात आठ बजे की रिपोर्ट यह थी कि पूजा पंडाल में पट खुलने की वजह से मांग 6200 मेगावाट तक पहुंची पर आपूर्ति 5424 मेगावाट थी। एनटीपीसी से आपूर्ति 3200 मेगावाट तक थी। शेष की व्यवस्था पवन ऊर्जा व अन्य स्रोतों के साथ-साथ बाजार से बिजली क्रय कर की गई।  बाजार से बीस रुपए प्रति यूनिट की दर से बिजली कंपनी ने मंगलवार को बिजली की खरीद जारी रखी।

दो से तीन दिनों में आपूर्ति में सुधार की उम्‍मीद

वहीं आधिकारिक तौर पर यह जानकारी दी गयी कि एनटीपीसी की बाढ़ स्थित एक उत्पादन इकाई, जो अभी ओवरहालिंग में है, वह नवंबर से पहले उत्पादन में नहीं आने वाली है। ओवरहालिंग के बाद यूनिट कब उत्पादन में आएगी,  यह पूर्व से तय है। उक्त यूनिट से 660 मेगावाट बिजली की आपूर्ति हो रही थी। वैसे एनटीपीसी द्वारा यह बताया गया कि कोयले की आपूर्ति में सुधार हुआ है। इस वजह से दो-तीन दिनों में आपूर्ति और बढ़ेगी।

दुर्गा पूजा की वजह से बढ़ गई है बिजली की मांग

पूजा की वजह से बिजली की मांग बढ़ी है। मंगलवार को शाम 6.45 से सात बजे तक बिहार को 5124 मेगावाट मांग की आपूर्ति हो रही थी। सोमवार को इस समय यह आपूर्ति 5076 मेगावाट की थी। वहीं बाजार से आज इस अवधि में बिजली कंपनी ने 982 मेगावाट बिजली की खरीद की। सोमवार को इस अवधि में यह आंकड़ा 902 मेगावाट का था। इस अवधि में पीक आवर में किसी तरह की कोई कमी नहीं थी। वहीं शाम सात बजे से सवा सात बजे स्लाट में आपूर्ति कम हो गयी।

  • बिहार में बिजली की मांग 6200 मेगावाट तक और आपूर्ति हो पाई 5424
  • शाम साढ़े सात बजे 5191 मेगावाट की आपूर्ति थी, सोमवार को यह 5179 थी
  • बाजार से 20 रुपए प्रति यूनिट की दर से 845 मेगावाट की खरीद, सोमवार को 926 मेगावाट
  • नवंबर के पहले नहीं शुरू हो पाएगी ओवरहालिंग में गई बाढ़ की यूनिट

यह बताया गया कि आपूर्ति 4,996 मेगावाट थी जबकि सोमवार को इस स्लाट में आपूर्ति 5133 मेगावाट थी।  मंगलवार को बाजार से इस अवधि में 776 मेगावाट बिजली की खरीद बीस रुपए प्रति यूनिट पर हुई। वहीं सोमवार को 841 मेगावाट खरीदी गयी थी। शाम सवा सात से साढ़े सात बजे के स्लाट में आपूर्ति 5191 मेगावाट पर आ गई। यह सोमवार को 5179 मेगावाट थी। पर इस अवधि में बाजार से खरीदारी सोमवार की तुलना में कम हो गई। सोमवार को 926 मेगावाट का क्रय था जो मंगलवार को घटकर 845 मेगावाट पर पहुंच गया।

एनटीपीसी से मिली जानकारी के अनुसार बरौनी स्थित उत्पादन इकाई 6 से 110 मेगावाट की बिजली बिहार को मिलनी है पर उक्त यूनिट से बिजली के इवैक्यूएशन में खामी है। इसके ठीक हुए बिना 110 मेगावाट बिजली बिहार को नहीं मिल सकती है। इसे ठीक करने की जवाबदेही बिजली कंपनी की है।

Edited By: Shubh Narayan Pathak