जागरण संवाददाता, पटना। Earthquake in Patna, Bihar बिहार में सोमवार की रात 9 बजकर 23 मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र नालंदा से 20 किलोमीटर उत्तर-पश्चिमी दूर था। इसे पटना-नालंदा के मध्य बताया जा रहा है। भूकंप की तीव्रता 3.5 रिकार्ड की गई। भूकंप का केंद्र 5 किलोमीटर गहराई में था। पटना जोन 3 में आता है। राजधानी के अलावा भागलपुर, गया, औरंगाबाद, नालंदा, नवादा, बक्सर समेत कई जिलों में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। हालांकि भूकंप की तीव्रता कम होने से इसका बहुत ज्यादा असर नहीं रहा।

पटना मौसम विज्ञान केंद्र के विज्ञानी एसके मंडल का कहना है कि रात में आए भूकंप का केंद्र नालंदा से बीस किलोमीटर पश्चिम-उत्तर दिशा में था। भूकंप के झटके राज्य के अधिकांश हिस्सों में महसूस किए गए।भूकंप आने पर राजधानी के अधिकांश लोगों ने झटका महसूस किया। अचानक जब घरों के पंखे हिलने लगे तो लोग भयभीत होकर घरों से बाहर भागे। राजधानी की सड़कों पर काफी लोग निकल आए। कई लोग काफी देर तक सड़कों पर डर से बैठे रहे। 

चार जोन में बंटी है धरती 

भूकंप की दृष्टिकोण से धरती को चार जोन में बांटा गया था। जिन इलाके में कम भूकंप आता है, उसे जोन 2 में रखा गया है। भूकंप को 2, 3, 4 एवं 5 में बांटा गया है। भूकंप के ज्यादा संवेदनशील जगहों को जोन 5 में रखा जाता है। बिहार के नेपाल से सटे अधिकांश जिले जोन 5 में हैं। जबकि पटना-नालंदा जोन 3 में आते हैं। 

पटना में घर के बाहर आ गए लोग

3.5 की तीव्रता से भूकंप के घटके लगने से पटना के बोरिंग रोड, आशियाना नगर, पटेल नगर में लोग घरों से बाहर निकल आए। दुकानों के बाहर भी भीड़ लग गई। सोमवार की रात राजधानीवासी घरों में भोजन करने की तैयारी कर रहे थे कि भूकंप के झटके महसूस किए गए। झटका महसूस होते ही लोग घरों के बाहर निकलने लगे। इसके बाद परिजनों को फोन करने लगे, एक-दूसरे का हाल-चाल जानने में लग गए। पटना के अलावा भागलपुर, गया समेत कई जिलों में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। हालांकि, कई लोगों को भूकंप के बारे में पता ही नहीं चल सका। एक दूसरे को फोनकर इसकी जानकारी दी गई। 

यह भी पढ़ें: Bihar Earthquake: बिहार में कभी भी आ सकता है 1934 जैसा बड़ा भूकंप, ऐसा हुआ तो तय है तबाही

Edited By: Akshay Pandey