पटना, जेएनएन। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए बिहार सरकार द्वारा 31 मार्च तक सारे सरकारी और निजी स्कूल और कॉलेज को बंद करने का आदेश दिया गया था। इसका असर बिहार राज्य महिला आयोग पर भी देखने को मिला है। सोमवार से 31 मार्च तक आयोग के कार्यालय में किसी प्रकार के केस की सुनवाई नहीं होगी। हालांकि आयोग की सदस्य और कर्मचारियों को कार्यालय आना होगा। इस संबंध में जानकारी आयोग की वेबसाइट पर भी अपडेट कर दी गई है।

आयोग की वेबसाइट को किया अपडेट

महिला आयोग की अध्यक्ष दिलमणि मिश्रा का कहना है कि संक्रमण को रोकने के लिए आयोग के कार्यालय में 31 तक सुनवाई बंद की गई है। इस बीच जिनका भी आवेदन या केस की डेट थी, सब को 31 मार्च के बाद सुनवाई की तिथि दी गई है। महिला आयोग की वेबसाइट पर भी इस संदर्भ में पूरी जानकारी दी गई है।

मुंह पर मास्क लगाकर कार्यालय में हो रहा काम

महिला आयोग की सदस्य अपनी सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए मुंह पर मास्क बांध कर काम कर रही हैं। पेपर वर्क किया जा रहा है। आयोग की सदस्य अंजू बताती हैं कि पुराने कई सारे पेपर वर्क बचे हुए हैं जो हम सब मिलकर इस समय में पूरा कर लेंगे। अपनी सुरक्षा के लिए हम मास्क पहन कर काम कर रहे हैं।

40 महिलाओं को किया गया वापस

नये और पुराने केस में अपने आवेदन और न्याय की गुहार लगाने वाली 40 महिलाओं को 31 के बाद आने के लिए कहते हुए उन्हें वापस भेज दिया गया। वहीं ऑफिस के गेट से लेकर सदस्यों के केबिन तक नोटिस को लेकर सन्नाटा फैला हुआ था। आम दिनों की अपेक्षा शिकायत लेकर भी पीड़ित आयोग के कार्यालय में कम ही आ रहे हैं। एेसे में कर्मचारी भी एेहतियातन सुरक्षा के लिए सभी तरह के दिशा-निर्देश का पालन कर रहे हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस